Category Archives: Story

રઈશ ફિલ્મ જોતા પહેલા આ મેસેજ જરુર વાચજો

*રઈશ ફિલ્મ જોતા પહેલા આ મેસેજ જરુર વાચજો*

ગુજરાતના ગુંડાઓ મોટાભાગે મુંબઈના ગુંડાઓ આધારિત રહેતા.

લતીફ પહેલા મુંબઈના કરીમલાલા એના ભત્રીજા સમદખાન અને આલમઝેબનાં હાથ નીચે અમદાવાદમાં કામ કરતો હતો.

મુંબઈમાં કરીમલાલા આણી મંડળીનો સૌથી મોટો દુશ્મન દાઉદ ઇબ્રાહીમ હતો.

બંને એક જ કોમના હતા.

માટે કહું છું *ગુંડાઓનો કોઈ ધર્મ હોતો નથી.*

બંને ગેંગ એકબીજાના લોહીની તરસી હતી.

ગુજરાતના રમખાણોના ઇતિહાસમાં ૧૯૮૫નાં મેં મહિનાની આઠમી તારીખ એક ઇતિહાસ બની જવાની હતી.

કાલુપુર ચકલા પોલીસ ચોકીના પોલીસ સબઇન્સ્પેક્ટર *મહેન્દ્રસિંહ ટેમુભા રાણા* બપોરે થયેલા પથ્થરમારામાં ઘાયલ તો થયેલા જ હતા.

એમના ધર્મપત્ની પ્રેગનન્ટ હોવાથી અને ટૂંક સમયમાં બાળકને જન્મ આપવાનાં હોવાથી મહેન્દ્રસિંહ ૧૫ દિવસની રજા લઈ ઘેર જવાના હતા.

પોલીસની કામગીરી ૨૪/૭ ખાલી ભારતમાં જ હોય છે તે અમુક મુરખોને ખબર હોતી નથી અને પોલીસને ગાળો દીધે રાખતા હોય છે.

ઘેર જવા સામાન પેક કરતા મહેન્દ્રસિંહ ઉપર વાયરલેસ મૅસેજ ઉપરા ઉપરી આવવા લાગ્યા કે ભંડેરી પોળ જે હિન્દુઓની હતી તેને ગુંડાઓએ ઘેરી લીધી છે અને એને આખી સળગાવી મારવાનો પ્લાન છે.

લતીફના માણસો આખી પોળને સળગાવી મારવાની તૈયારીમાં છે.

પ્રજા માટે પોતાના માથા આપી દેવાના બાપદાદાઓના DNA ધરાવતા રાણા સાહેબ તરત પહેલા તો કાલુપુર પોલીસ સ્ટેશનમાં રજા રદ કરાવી હાજર થઈ ગયા.

એસ.પી. જાડેજા સાહેબે હુકમ કર્યો ભંડેરી પોળ પહોચો.

સ્ટાફ કોઈ હાજર નહોતો તો ફક્ત બે કૉન્સ્ટેબલ, એક ભરવાડ અને એક ગઢવીને લઈ રાણા સાહેબ ભંડેરી પોળ પહોચ્યા.

ભારતના કોન્સ્ટેબલના હાથમાં શું હોય બે ડંડા.. પી.એસ.આઈનાં હાથમાં શું હોય એક બાવાઆદમના જમાનાની સર્વિસ રિવૉલ્વર.

એ જમાનામાં પોળોમાં છાપરાવાળા મકાનો. કોઈ અગાસીમાંથી ખાનગી ગોળીબાર થતા હતા.

મહેન્દ્રસિંહ પોતે એક છાપરા ઉપર ચડ્યા. લતીફના માણસોએ સામેથી લાઈટો બંધ કરી દીધી અને એકદમ શાંતિ પથરાઈ ગઈ.

કૉન્સ્ટેબલ પાસેથી ટૉર્ચ લઈ મહેન્દ્રસિંહ હાથમાં સર્વિસ રિવૉલ્વર લઈ સામે પડ્યા તો સામેથી A.K.56 માંથી ધાણીફૂટ ગોળીબારમાં શાર્પશૂટરોએ મહેન્દ્રસિંહ ટેમુભા રાણાનું હૃદય જ વીંધી નાખ્યું સાત ગોળીઓ છોડીને.

પોલીસ સબઇન્સ્પેક્ટરને માર્યા પછી લતીફના ગુંડાઓની હિંમત રહી નહિ આખી પોળને ભૂંજી મારવાની.

કારણ હવે ગુજરાત પોલીસ ભુરાઈ થવાની જ હતી. અને થઈ પણ હતી.

અને થઈ નાં હોત તો તોફાનો કાબુમાં પણ આવવાનાં નહોતા. ઘેલી પ્રજાના પોલીસવાળાને પણ ઘેલા થયા વગર ચાલે તેમ હોતું નથી.

કરુણતા જુઓ, તે દિવસે મહેન્દ્રસિંહનાં પિતરાઈ બહેનના લગ્ન હતા.

અને બીજા કોઈ સંબંધીના લગ્નમાં હાજરી આપવી અનિવાર્ય હોવાથી એમના પિતા ટેમુભા રાજકોટ ગયેલા.

પાણસીણી પોલીસ સ્ટેશનથી ખુદ ડી.એસ.પી. આવીને સુખદ પ્રસંગમાં દુઃખદ સમાચાર આપે છે.

શું વીતી હશે એમના કુટુંબીઓ ઉપર?

મહેન્દ્રસિંહનાં બારમાનાં દિવસે એમના પત્નીએ દીકરી અલ્પાબાને જન્મ આપ્યો,

કે તે દીકરી કદી બાપનું મુખ જોવા પામવાની નહોતી.

બાપ એના જન્મની સાક્ષી બનવા રજા મૂકી આવવાનો હતો પણ ફરજ કોને કીધી?

પ્રજાના જાનમાલની રક્ષા માટે એ બાપ કાયમી વિદાય લઈ ચૂક્યો હતો.

એક બાજુ દીકરીનો જન્મ હતો અને એક બાજુ તેના બાપનું બારમું હતું.

ત્યારે જે ભંડેરી પોળને બચાવવા જીવ આપેલો તે પોળના આગેવાન વડીલો અને યુવાનો મહેન્દ્રસિંહનાં બારમામાં હાજર હતા.

એટલે સુધી કે પોતાનો સગો બાપ મરી ગયો હોય તેમ બધાએ માથે મુંડન પણ કરાવેલું, અને શ્રાદ્ધ પણ કરેલું.

આ લખતા મારી આંખોમાં પાણી આવે છે.

કોઈના માનવામાં નહિ આવે પણ મહેન્દ્રસિંહના મોટા દીકરી વંદનાબાના લગ્નમાં વગર આમંત્રણ ભંડેરી પોળના રહીશો, એ જમાનામાં ૨૫૦૦૦ રૂપિયાનું મામેરું લઈને આવેલા.

એમના બીજા દીકરીના લગ્નમાં પણ ભંડેરી પોળના રહીશો હાજર હતા.

મહેન્દ્રસિંહનો દયાળુ જીવ જુઓ.

એમના તાબાના એરિયામાં પાથરણાવાળા ગરીબ વેપારીઓની વસ્તુઓ લઈ પોલીસવાળા પૈસા આપે નહિ.

પી.એસ.આઈ મહેન્દ્રસિન્હે પોતાના પોલીસવાળા વિરુદ્ધ જઈને પાથરણાવાળા વેપારીઓને કહી દીધેલું કે કોઈ પોલીસવાળો મફતમાં વસ્તુ લઈ જાય તો મને કહેજો, કે ખોટી રીતે હેરાન કરે તો મને કહેજો હું એને સીધો કરીશ.

*મહેન્દ્રસિંહની શહાદત અમર છે.*

ભંડેરીપોળમાં આવેલા હનુમાન મંદિરના મહંતનાં પ્રયાસો વડે એમની પ્રતિમા સ્મારક રૂપે ત્યાં ઊભી જ છે.

આજે પણ ભંડેરીપોળના રહીશો એમના એમ.ટી.રાણા સાહેબ મહેન્દ્રસિંહ ટેમુભા રાણાને યાદ કરે છે.

પોલીસ હંમેશાં ખરાબ હોતી નથી..

તેનો મજબૂત પુરાવો મહેન્દ્રસિંહ ટેમુભા રાણા છે.

તો હવે દાદાની કંડારેલી કેડી પર એમના પૌત્ર યશપાલસિંહ રાણા પી.એસ.આઇ તરીકેની સફળ ટે્નીંગ લઈને ગુજરાત પોલીસમાં સેવા આપવા તૈયારી કરી ચૂક્યા છે.

દેશની કમબખ્તી તો એ છે કે લતીફ જેવા લુખ્ખાઓ પર ફિલ્મો બને છે પણ રાણા જેવા બહાદુરો પર નહિ.

ફિલ્મ જોવી ન જોવી તમારા પર છે.

Who is tulsi interesting story

​*तुलसी कौन थी?*

तुलसी(पौधा) पूर्व जन्म मे एक लड़की थी जिस का नाम वृंदा था, राक्षस कुल में उसका जन्म हुआ था बचपन से ही भगवान विष्णु की भक्त थी.बड़े ही प्रेम से भगवान की सेवा, पूजा किया करती थी.जब वह बड़ी हुई तो उनका विवाह राक्षस कुल में दानव राज जलंधर से हो गया। जलंधर समुद्र से उत्पन्न हुआ था.

वृंदा बड़ी ही पतिव्रता स्त्री थी सदा अपने पति की सेवा किया करती थी.

एक बार देवताओ और दानवों में युद्ध हुआ जब जलंधर युद्ध पर जाने लगे तो वृंदा ने कहा –

स्वामी आप युद्ध पर जा रहे है आप जब तक युद्ध में रहेगे में पूजा में बैठ कर आपकी जीत के लिये अनुष्ठान करुगी,और जब तक आप वापस नहीं आ जाते, मैं अपना संकल्प

नही छोडूगी। जलंधर तो युद्ध में चले गये,और वृंदा व्रत का संकल्प लेकर पूजा में बैठ गयी, उनके व्रत के प्रभाव से देवता भी जलंधर को ना जीत सके, सारे देवता जब हारने लगे तो विष्णु जी के पास गये।
सबने भगवान से प्रार्थना की तो भगवान कहने लगे कि – वृंदा मेरी परम भक्त है में उसके साथ छल नहीं कर सकता ।

फिर देवता बोले – भगवान दूसरा कोई उपाय भी तो नहीं है अब आप ही हमारी मदद कर सकते है।
भगवान ने जलंधर का ही रूप रखा और वृंदा के महल में पँहुच गये जैसे

ही वृंदा ने अपने पति को देखा, वे तुरंत पूजा मे से उठ गई और उनके चरणों को छू लिए,जैसे ही उनका संकल्प टूटा, युद्ध में देवताओ ने जलंधर को मार दिया और उसका सिर काट कर अलग कर दिया,उनका सिर वृंदा के महल में गिरा जब वृंदा ने देखा कि मेरे पति का सिर तो कटा पडा है तो फिर ये जो मेरे सामने खड़े है ये कौन है?
उन्होंने पूँछा – आप कौन हो जिसका स्पर्श मैने किया, तब भगवान अपने रूप में आ गये पर वे कुछ ना बोल सके,वृंदा सारी बात समझ गई, उन्होंने भगवान को श्राप दे दिया आप पत्थर के हो जाओ, और भगवान तुंरत पत्थर के हो गये।
सभी देवता हाहाकार करने लगे लक्ष्मी जी रोने लगे और प्रार्थना करने लगे यब वृंदा जी ने भगवान को वापस वैसा ही कर दिया और अपने पति का सिर लेकर वे

सती हो गयी।
उनकी राख से एक पौधा निकला तब

भगवान विष्णु जी ने कहा –आज से

इनका नाम तुलसी है, और मेरा एक रूप इस पत्थर के रूप में रहेगा जिसे शालिग्राम के नाम से तुलसी जी के साथ ही पूजा जायेगा और में

बिना तुलसी जी के भोग

स्वीकार नहीं करुगा। तब से तुलसी जी कि पूजा सभी करने लगे। और तुलसी जी का विवाह शालिग्राम जी के साथ कार्तिक मास में

किया जाता है.देव-उठावनी एकादशी के दिन इसे तुलसी विवाह के रूप में मनाया जाता है !
🙏🏼🙏🏼इस कथा को कम से कम दो लोगों को अवश्य सुनाए आप को पुण्य  अवश्य मिलेगा।  या चार ग्रुप मे प्रेषित करें।  🙏🏼🙏🏼

1 दिन एक राजा ने अपने 3 मन्त्रियो को

1 दिन एक राजा ने अपने 3 मन्त्रियो को दरबार में  बुलाया, और  तीनो  को  आदेश  दिया  के  एक  एक  थैला  ले  कर  बगीचे  में  जाएं ..,
और
वहां  से  अच्छे  अच्छे  फल  (fruits ) जमा  करें .  🍏🍋🍒🍇🍑🍈🍌
वो  तीनो  अलग  अलग  बाग़  में प्रविष्ट  हो  गए ,
पहले  मन्त्री  ने  कोशिश  की  के  राजा  के  लिए  उसकी पसंद  के  अच्छे  अच्छे  और  मज़ेदार  फल  जमा  किए जाएँ , उस ने  काफी  मेहनत  के  बाद  बढ़िया और  ताज़ा  फलों  से  थैला  भर  लिया ,

दूसरे मन्त्री  ने  सोचा  राजा  हर  फल  का परीक्षण  तो करेगा नहीं , इस  लिए  उसने  जल्दी  जल्दी  थैला  भरने  में  ताज़ा , कच्चे , गले  सड़े फल  भी  थैले  में  भर  लिए ,🍏

तीसरे  मन्त्री  ने  सोचा  राजा  की  नज़र  तो  सिर्फ  भरे  हुवे थैले  की  तरफ  होगी  वो  खोल  कर  देखेगा  भी  नहीं  कि  इसमें  क्या  है , उसने  समय बचाने  के  लिए  जल्दी  जल्दी  इसमें  घास , और  पत्ते  भर  लिए  और  वक़्त  बचाया .
🍋
दूसरे  दिन  राजा  ने  तीनों मन्त्रियो  को  उनके  थैलों  समेत  दरबार  में  बुलाया  और  उनके  थैले  खोल  कर  भी  नही देखे  और  आदेश दिया  कि , तीनों  को  उनके  थैलों  समेत  दूर  स्थान के एक जेल  में  ३  महीने बंद  कर  दिया  जाए .
🍒

अब  जेल  में  उनके  पास  खाने  पीने  को  कुछ  भी  नहीं  था  सिवाए  उन  थैलों  के ,
तो  जिस मन्त्री ने  अच्छे  अच्छे  फल  जमा  किये  वो  तो  मज़े  से  खाता  रहा  और  3 महीने  गुज़र  भी  गए ,
🍇
फिर  दूसरा  मन्त्री जिसने  ताज़ा , कच्चे  गले  सड़े  फल  जमा  किये  थे,  वह कुछ  दिन  तो  ताज़ा  फल  खाता  रहा  फिर  उसे सड़े गले   फल  खाने  पड़े , जिस  से  वो  बीमार  होगया  और  बहुत  तकलीफ  उठानी  पड़ी .

और  तीसरा मन्त्री  जिसने  थैले  में  सिर्फ  घास  और  पत्ते  जमा  किये  थे  वो  कुछ  ही  दिनों  में  भूख  से  मर  गया .

** अब  आप  अपने  आप  से  पूछिये  कि  आप  क्या  जमा  कर  रहे  हो  ??
🍑
आप  इस समय जीवन के  बाग़  में  हैं , जहाँ  चाहें  तो  अच्छे कर्म जमा  करें ..
चाहें  तो बुरे कर्म ,
मगर याद रहे जो आप जमा करेंगे वही आपको आखरी समय काम आयेगा  क्योंकि दुनिया का राजा आपको चारों ओर से देख रहा है  । 👍🌺:)🌹

Nice story must read.

एक कवि नदी के किनारे खड़ा

एक कवि नदी के किनारे खड़ा था !
तभी वहाँ से एक लड़की का शव
नदी में तैरता हुआ जा रहा था।
तो तभी कवि ने उस शव से पूछा —-

कौन हो तुम ओ सुकुमारी,
बह रही नदियां के जल में ?

कोई तो होगा तेरा अपना,
मानव निर्मित इस भू-तल मे !

किस घर की तुम बेटी हो,
किस क्यारी की कली हो तुम ?

किसने तुमको छला है बोलो,
क्यों दुनिया छोड़ चली हो तुम ?

किसके नाम की मेंहदी बोलो,
हांथो पर रची है तेरे ?

बोलो किसके नाम की बिंदिया,
मांथे पर लगी है तेरे ?

लगती हो तुम राजकुमारी,
या देव लोक से आई हो ?

उपमा रहित ये रूप तुम्हारा,
ये रूप कहाँ से लायी हो?
……….

दूसरा दृश्य—-
कवि की बाते सुनकर
लड़की की आत्मा बोलती है…

कवी राज मुझ को क्षमा करो,
गरीब पिता की बेटी हुँ !

इसलिये मृत मीन की भांती,
जल धारा पर लेटी हुँ !

रूप रंग और सुन्दरता ही,
मेरी पहचान बताते है !

कंगन, चूड़ी, बिंदी, मेंहदी,
सुहागन मुझे बनाते है !

पित के सुख को सुख समझा,
पित के दुख में दुखी थी मैं !

जीवन के इस तन्हा पथ पर,
पति के संग चली थी मैं !

पति को मेने दीपक समझा,
उसकी लौ में जली थी मैं !

माता-पिता का साथ छोड
उसके रंग में ढली थी मैं !

पर वो निकला सौदागर,
लगा दिया मेरा भी मोल !

दौलत और दहेज़ की खातिर
पिला दिया जल में विष घोल !

दुनिया रुपी इस उपवन में,
छोटी सी एक कली थी मैं !

जिस को माली समझा,
उसी के द्वारा छली थी मैं !

इश्वर से अब न्याय मांगने,
शव शैय्या पर पड़ी हूँ मैं !

दहेज़ की लोभी इस संसार मैं,
दहेज़ की भेंट छड़ी हूँ में !

दहेज़ की भेंट चढ़ी हूँ मैं !!

…………………

अनुरोध है इस कविता को शेयर जरुर करे !!

ऑफिस से निकल कर शर्माजी ने

ऑफिस से निकल कर शर्माजी ने

स्कूटर स्टार्ट किया ही था कि उन्हें याद आया,
.
पत्नी ने कहा था,१ दर्ज़न केले लेते आना।
.
तभी उन्हें सड़क किनारे बड़े और ताज़ा केले बेचते हुए

एक बीमार सी दिखने वाली बुढ़िया दिख गयी।
.
वैसे तो वह फल हमेशा “राम आसरे फ्रूट भण्डार” से

ही लेते थे,
पर आज उन्हें लगा कि क्यों न

बुढ़िया से ही खरीद लूँ ?
.
उन्होंने बुढ़िया से पूछा, “माई, केले कैसे दिए”
.
बुढ़िया बोली, बाबूजी बीस रूपये दर्जन,

शर्माजी बोले, माई १५ रूपये दूंगा।
.
बुढ़िया ने कहा, अट्ठारह रूपये दे देना,

दो पैसे मै भी कमा लूंगी।
.
शर्मा जी बोले, १५ रूपये लेने हैं तो बोल,

बुझे चेहरे से बुढ़िया ने,”न” मे गर्दन हिला दी।
.
शर्माजी बिना कुछ कहे चल पड़े

और राम आसरे फ्रूट भण्डार पर आकर

केले का भाव पूछा तो वह बोला २४ रूपये दर्जन हैं
.
बाबूजी, कितने दर्जन दूँ ?

शर्माजी बोले, ५ साल से फल तुमसे ही ले रहा हूँ, 

ठीक भाव लगाओ।
.
तो उसने सामने लगे बोर्ड की ओर इशारा कर दिया।

बोर्ड पर लिखा था- “मोल भाव करने वाले माफ़ करें”

शर्माजी को उसका यह व्यवहार बहुत बुरा लगा,

उन्होंने कुछ  सोचकर स्कूटर को वापस

ऑफिस की ओर मोड़ दिया।
.
सोचते सोचते वह बुढ़िया के पास पहुँच गए।

बुढ़िया ने उन्हें पहचान लिया और बोली,
.
“बाबूजी केले दे दूँ, पर भाव १८ रूपये से कम नही लगाउंगी।

शर्माजी ने मुस्कराकर कहा,

माई एक  नही दो दर्जन दे दो और भाव की चिंता मत करो।
.
बुढ़िया का चेहरा ख़ुशी से दमकने लगा।

केले देते हुए बोली। बाबूजी मेरे पास थैली नही है ।

फिर बोली, एक टाइम था जब मेरा आदमी जिन्दा था
.
तो मेरी भी छोटी सी दुकान थी।

सब्ज़ी, फल सब बिकता था उस पर।

आदमी की बीमारी मे दुकान चली गयी,

आदमी भी नही रहा। अब खाने के भी लाले पड़े हैं।

किसी तरह पेट पाल रही हूँ। कोई औलाद भी नही है
.
जिसकी ओर मदद के लिए देखूं।

इतना कहते कहते बुढ़िया रुआंसी हो गयी,

और उसकी आंखों मे आंसू आ गए ।
.
शर्माजी ने ५० रूपये का नोट बुढ़िया को दिया तो

वो बोली “बाबूजी मेरे पास छुट्टे नही हैं।
.
शर्माजी बोले “माई चिंता मत करो, रख लो,

अब मै तुमसे ही फल खरीदूंगा,
और कल मै तुम्हें ५०० रूपये दूंगा।

धीरे धीरे चुका देना और परसों से बेचने के लिए

मंडी से दूसरे फल भी ले आना।
.
बुढ़िया कुछ कह पाती उसके पहले ही

शर्माजी घर की ओर रवाना हो गए।

घर पहुंचकर उन्होंने पत्नी से कहा,

न जाने क्यों हम हमेशा मुश्किल से

पेट पालने वाले, थड़ी लगा कर सामान बेचने वालों से

मोल भाव करते हैं किन्तु बड़ी दुकानों पर

मुंह मांगे पैसे दे आते हैं।
.
शायद हमारी मानसिकता ही बिगड़ गयी है।

गुणवत्ता के स्थान पर हम चकाचौंध पर

अधिक ध्यान देने लगे हैं।
.
अगले दिन शर्माजी ने बुढ़िया को ५०० रूपये देते हुए कहा,

“माई लौटाने की चिंता मत करना।

जो फल खरीदूंगा, उनकी कीमत से ही चुक जाएंगे।

जब शर्माजी ने ऑफिस मे ये किस्सा बताया तो

सबने बुढ़िया से ही फल खरीदना प्रारम्भ कर दिया।

तीन महीने बाद ऑफिस के लोगों ने स्टाफ क्लब की ओर से

बुढ़िया को एक हाथ ठेला भेंट कर दिया।

बुढ़िया अब बहुत खुश है।

उचित खान पान के कारण उसका स्वास्थ्य भी

पहले से बहुत अच्छा है ।

हर दिन शर्माजी और ऑफिस के

दूसरे लोगों को दुआ देती नही थकती।
.
शर्माजी के मन में भी अपनी बदली सोच और

एक असहाय निर्बल महिला की सहायता करने की संतुष्टि का भाव रहता है..!

जीवन मे किसी बेसहारा की मदद करके देखो

अपनी पूरी जिंदगी मे किये गए सभी कार्यों से

ज्यादा संतोष मिलेगा…!!

शौपिंग मॉल की चकाचौंध में मत जाओ । उनके और भी व्यवसाय है।🙏🙏🙏

.

नोट: – यदि लेख अच्छा लगा हो तो जरुर शेयर करे……..

Sunar mil jae to bata

Very interesting story…..

1 badshah apne sipahiyo ke sath ek talab par nahane ke liye gaya,

waha kuch ladkiya pehle se naha rahi thi,

badshah ki sawari aate dekh wo sari bahar aa gayi ,

unme se ek ladki badshah ko pasand aa gayi..!!

Badshah apne mahel wapas aaya,

lekin badshah ki nazro ke samne bar bar usi ladki ki surat aa rahi thi,

uska mann kisi kaam me nahi lag raha tha,

raat hui …..

sari raat badshah usi ladki ke bare me sochta raha,

subah usne apne sipahiyo ko hukm diya
“jao pata karo wo ladki kaha rehti hai”,

sipahiyo ne pata lagaya,

Uss ladki ka baap sunaar tha,

badshah ne sunaar ko darbar me bulaya.

4 din guzarne k baad bhi sunar badshah k darbar me nahi aya,

badshah ne dubara bulawa bheja,

is bar 8 din guzar gaye wo nahi aaya,

badshah ko gussa aa gaya

aur

usne sunar ko giraftar karne k liye Sipahi bheje.

Jab woh Sunar k ghar pahuche to ghar ko Tala laga hua tha,

Badshah ne Sipahiyon ko Hukm diya ki Sunaar ko dhundo.

Sipahiyo ne sunar ko har jagah dhunda lekin wo unko kahi nhi mila.

Fir unhone ek tarkeeb nikali

aur

ailaan kiya ke jo bhi sunaar ko dhundne me madat karega use 1kg sona diya jayega.

ek hafta guzar gaya,

Fir bhi sunaar nahi mila.

Fir ailaan kiya gaya ki jo bhi sunaar ko chupne me madat karega use sooli pe chadaya jayega.

aur ek hafta guzar gaya,

Fir bhi sunaar nahi mila.

Fir 1 mahina guzar gya fir bhi sunar nhi mila

Fir raja ne ailaan kiya ki agar sunar nhi mila toh woh pure rajya ko saja dega

Fir bhi sunar nahi mila.

Aakhir mei raja ne aas paas ke kahi rajyo ke raja o se
madat maangi,

Unhone bhi sunar ko apne apne rajya mei dhoonda,

fir sunar nhi mila.

Badshah mayus ho gaya,

ek din badshah ne ek sapna dekha,

sapne me usi taalab ko dekha aur sapne me hi daud kar us
taalab ke pas gaya,

lekin waha bhi koi nahi tha,

udas hokar jab piche palta to ek gyani baba nazar aaye,

unhone nadi ko lag kar ek jhopde ki taraf ishara kiya,

aur kaha

“tujhe jiski talash hai wo wahi hai”,

badshah chaunk kar nind se utha aur apne sipahiyo ko lekar us talab ke pas gaya,

waha wo sapne wala jhopda use nazar aaya,

badshah khush ho gaya,

aur jab jhopde me ghusa to ek ladki aur aur ek boodha aadmi
nazar aaye,

lekin wo ladki badsurat thi

aur uska baap bhikhari tha.

Ab bhi sunar nahi mila,

Aakhir kar tang aakar badshah ne apne sipahiyo ko Nakara karar diya

aur

Case CBI ko saunp diya,

Phir bhi SUNAR nahi MILA,

Aur aakhir Raja ka,

uske siphaiyon ka,

dusre rajya walo ka

aur

CBI walo ka Sunar ko dhundne me sara Waqt aise barbad hua

jaise

Aap ka is message ko padhne me hua..

jis ka koi matlab nahi.

Gussa mat karna,

Mere sath bhi aisa hua tha..!!

kisi aur ko bhej ke badla le lo!

Sunar mil jae to bata dena ……

uski ladki bahut khubsurat hai ..!😂😂😂😂😂

मोहन काका डाक विभाग के

मोहन काका डाक विभाग के कर्मचारी थे। बरसों से वे माधोपुर और आस पास के गाँव में चिट्ठियां बांटने का काम करते थे।

एक दिन उन्हें एक चिट्ठी मिली, पता माधोपुर के करीब का ही था लेकिन आज से पहले उन्होंने उस पते पर कोई चिट्ठी नहीं पहुंचाई थी।

रोज की तरह आज भी उन्होंने अपना थैला उठाया और चिट्ठियां बांटने निकला पड़े। सारी चिट्ठियां बांटने के बाद वे उस नए पते की ओर बढ़ने लगे।
दरवाजे पर पहुँच कर उन्होंने आवाज़ दी, “पोस्टमैन!”

अन्दर से किसी लड़की की आवाज़ आई, “काका, वहीं दरवाजे के नीचे से चिट्ठी डाल दीजिये।”

“अजीब लड़की है मैं इतनी दूर से चिट्ठी लेकर आ सकता हूँ और ये महारानी दरवाजे तक भी नहीं निकल सकतीं !”, काका ने मन ही मन सोचा।

“बहार आइये! रजिस्ट्री आई है, हस्ताक्षर करने पर ही मिलेगी!”, काका खीजते हुए बोले।

“अभी आई।”, अन्दर से आवाज़ आई।

काका इंतज़ार करने लगे, पर जब 2 मिनट बाद भी कोई नहीं आयी तो उनके सब्र का बाँध टूटने लगा।

“यही काम नहीं है मेरे पास, जल्दी करिए और भी चिट्ठियां पहुंचानी है”, और ऐसा कहकर काका दरवाज़ा पीटने लगे।

कुछ देर बाद दरवाज़ा खुला।

सामने का दृश्य देख कर काका चौंक गए।

एक 12-13 साल की लड़की थी जिसके दोनों पैर कटे हुए थे। उन्हें अपनी अधीरता पर शर्मिंदगी हो रही थी।

लड़की बोली, “क्षमा कीजियेगा मैंने आने में देर लगा दी, बताइए हस्ताक्षर कहाँ करने हैं?”

काका ने हस्ताक्षर कराये और वहां से चले गए।

इस घटना के आठ-दस दिन बाद काका को फिर उसी पते की चिट्ठी मिली। इस बार भी सब जगह चिट्ठियां पहुँचाने के बाद वे उस घर के सामने पहुंचे!

“चिट्ठी आई है, हस्ताक्षर की भी ज़रूरत नहीं है…नीचे से डाल दूँ।”, काका बोले।

“नहीं-नहीं, रुकिए मैं अभी आई।”, लड़की भीतर से चिल्लाई।

कुछ देर बाद दरवाजा खुला।

लड़की के हाथ में गिफ्ट पैकिंग किया हुआ एक डिब्बा था।

“काका लाइए मेरी चिट्ठी और लीजिये अपना तोहफ़ा।”, लड़की मुस्कुराते हुए बोली।

“इसकी क्या ज़रूरत है बेटा”, काका संकोचवश उपहार लेते हुए बोले।

लड़की बोली, “बस ऐसे ही काका…आप इसे ले जाइए और घर जा कर ही खोलियेगा!”

काका डिब्बा लेकर घर की और बढ़ चले, उन्हें समझ नहीं आर रहा था कि डिब्बे में क्या होगा!

घर पहुँचते ही उन्होंने डिब्बा खोला, और तोहफ़ा देखते ही उनकी आँखों से आंसू टपकने लगे।

डिब्बे में एक जोड़ी चप्पलें थीं। काका बरसों से नंगे पाँव ही चिट्ठियां बांटा करते थे लेकिन आज तक किसी ने इस ओर ध्यान नहीं दिया था।

ये उनके जीवन का सबसे कीमती तोहफ़ा था…काका चप्पलें कलेजे से लगा कर रोने लगे; उनके मन में बार-बार एक ही विचार आ रहा था- बच्ची ने उन्हें चप्पलें तो दे दीं पर वे उसे पैर कहाँ से लाकर देंगे?

दोस्तों, संवेदनशीलता या sensitivity एक बहुत बड़ा मानवीय गुण है। दूसरों के दुखों को महसूस करना और उसे कम करने का प्रयास करना एक महान काम है। जिस बच्ची के खुद के पैर न हों उसकी दूसरों के पैरों के प्रति संवेदनशीलता हमें एक बहुत बड़ा सन्देश देती है। आइये हम भी अपने समाज, अपने आस-पड़ोस, अपने यार-मित्रों-अजनबियों सभी के प्रति संवेदनशील बनें…आइये हम भी किसी के नंगे पाँव की चप्पलें बनें और दुःख से भरी इस दुनिया में कुछ खुशियाँ फैलाएं!:)

Ladki… Happy birthday

Ladki… Happy birthday
Ladka… Thank you baby
Ladki… M tumare ghar p 7:30 augi
Ladka…. Thik h baby
Ladka… 7:30 se 8:30 ek ghante ladki ka intjar
kiya or ladki nhi aai
Ladki… 8:31 p ladke se Milne aai
Ladka … Itna der Ku lagaya
Ladki… Rashte m trefik bahut tha
Ladka… Koi bat nhi baby chalo dinner karte h tab
tak
ladki ki ma ka phone aagya or vo ro rhi thi
ladke n ladki ki ma se pucha aap ro Ku rhe ho
Ladki ki ma… Boli ki beta m hospital m or jor se
Rone lagi
Ladka… Aap ro Ku rhe ho
Ladki ki ma… Beta meri beti ka exident ho gya h
ham logo n bahut kosis kiya lekin use bacha nhi
paye
Ladka… Ladki ki taraf dekhne laga
Ladki… Adhere ki taraf hath m candle liye ja rhi
thi or boli I Love you baby mene apna wada pura
kiya………..

प्रभू का पत्र

प्रभू का पत्र

मेरे प्रिय…
सुबह तुम जैसे ही सो कर उठे, मैं तुम्हारे बिस्तर के पास ही खड़ा था। मुझे लगा कि तुम मुझसे कुछ बात
करोगे। तुम कल या पिछले हफ्ते हुई किसी बात या घटना के लिये मुझे धन्यवाद कहोगे। लेकिन तुम फटाफट चाय पी कर तैयार होने चले गए और मेरी तरफ देखा भी नहीं!!!

फिर मैंने सोचा कि तुम नहा के मुझे याद करोगे। पर तुम इस उधेड़बुन में लग गये कि तुम्हे आज कौन से कपड़े पहनने है!!!

फिर जब तुम जल्दी से नाश्ता कर रहे थे और अपने ऑफिस के कागज़ इक्कठे करने के लिये घर में इधर से उधर दौड़ रहे थे…तो भी मुझे लगा कि शायद अब तुम्हे मेरा ध्यान आयेगा,लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

फिर जब तुमने आफिस जाने के लिए ट्रेन पकड़ी तो मैं समझा कि इस खाली समय का उपयोग तुम मुझसे बातचीत करने में करोगे पर तुमने थोड़ी देर पेपर पढ़ा और फिर खेलने लग गए अपने मोबाइल में और मैं खड़ा का खड़ा ही रह गया।

मैं तुम्हें बताना चाहता था कि दिन का कुछ हिस्सा मेरे साथ बिता कर तो देखो,तुम्हारे काम और भी अच्छी तरह से होने लगेंगे, लेकिन तुमनें मुझसे बात
ही नहीं की…

एक मौका ऐसा भी आया जब तुम
बिलकुल खाली थे और कुर्सी पर पूरे 15 मिनट यूं ही बैठे रहे,लेकिन तब भी तुम्हें मेरा ध्यान नहीं आया।

दोपहर के खाने के वक्त जब तुम इधर-
उधर देख रहे थे,तो भी मुझे लगा कि खाना खाने से पहले तुम एक पल के लिये मेरे बारे में सोचोंगे,लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

दिन का अब भी काफी समय बचा था। मुझे लगा कि शायद इस बचे समय में हमारी बात हो जायेगी,लेकिन घर पहुँचने के बाद तुम रोज़मर्रा के कामों में व्यस्त हो गये। जब वे काम निबट गये तो तुमनें टीवी खोल लिया और घंटो टीवी देखते रहे। देर रात थककर तुम बिस्तर पर आ लेटे।
तुमनें अपनी पत्नी, बच्चों को शुभरात्रि कहा और चुपचाप चादर ओढ़कर सो गये।

मेरा बड़ा मन था कि मैं भी तुम्हारी दिनचर्या का हिस्सा बनूं…

तुम्हारे साथ कुछ वक्त बिताऊँ…

तुम्हारी कुछ सुनूं…

तुम्हे कुछ सुनाऊँ।

कुछ मार्गदर्शन करूँ तुम्हारा ताकि तुम्हें समझ आए कि तुम किसलिए इस धरती पर आए हो और किन कामों में उलझ गए हो, लेकिन तुम्हें समय
ही नहीं मिला और मैं मन मार कर ही रह गया।

मैं तुमसे बहुत प्रेम करता हूँ।

हर रोज़ मैं इस बात का इंतज़ार करता हूँ कि तुम मेरा ध्यान करोगे और
अपनी छोटी छोटी खुशियों के लिए मेरा धन्यवाद करोगे।

पर तुम तब ही आते हो जब तुम्हें कुछ चाहिए होता है। तुम जल्दी में आते हो और अपनी माँगें मेरे आगे रख के चले जाते हो।और मजे की बात तो ये है
कि इस प्रक्रिया में तुम मेरी तरफ देखते
भी नहीं। ध्यान तुम्हारा उस समय भी लोगों की तरफ ही लगा रहता है,और मैं इंतज़ार करता ही रह जाता हूँ।

खैर कोई बात नहीं…हो सकता है कल तुम्हें मेरी याद आ जाये!!!

ऐसा मुझे विश्वास है और मुझे तुम
में आस्था है। आखिरकार मेरा दूसरा नाम…आस्था और विश्वास ही तो है।
.
.
.
तुम्हारा ईश्वर…👣

दोस्तों की ख़ुशी के लिए तो कई मैसेज भेजते हैं । देखते हैं परमात्मा के धन्यवाद का ये मैसेज कितने लोग शेयर करते हैं ।

किसी पर कोई दबाव नही है ।

🎅🎅🎅🎅🎅

अँधा आदमी का कभी

**अँधा आदमी का कभी मजाक नही उड़ाना चाहिये ***
एक अँधा आदमी एक फाइव स्टार होटल में गया !
होटल मैनेजर ने उससे पूछा :- ये हमारा मीनू है, आप क्या लेंगे सर ?
,
अंधा आदमी :– मैं अँधा हूँ, आप मुझे अपनी किचन से, चम्मच को आपके खाने के आइटम में डुबोकर ला दें, मैं उसे सूंघ कर, आर्डर कर दूँगा !
,
मैनेजर को यह सुनकर बड़ा ही आश्चर्य हुआ, मैनेजर ने अपने अलग- अलग खाने के आइटम में, चम्मच डुबाकर,
अँधे आदमी को सुंघाई, अंधे ने सही बताया कि, वो क्या है, और अँधे ने सूंघ कर ही खाने का आर्डर किया !
,
मैनेजर ने, अँधे आदमी की परीक्षा लेने की सोची, कि यह सब एक अँधा आदमी सूंघकर कैसे बता सकता है ? मैनेजर किचन में गया और अपनी पत्नी मीना से
बोला कि, तुम चम्मच को अपने होठों पर रगड़ो !
,
मीना ने चम्मच को अपने होठों पर रगड़ कर चम्मच मैनेजर को दे दी ! मैनेजर ने वो चम्मच अँधे, आदमी को ले जा कर दी और बोला बताओ आज हमने क्या बनाया है ?
,
अँधे आदमी ने चम्मच को सूंघा और बोला :– ओह मायी गोड !
मेरी क्लासमेट मीना यहाँ काम करती है !
,
मैनेजर बेहोश, आजतक कोमा में है

पांच साल का बालक

पांच साल का बालक एक राजा की कहानी सुनकर माँ से बोला :

माँ मुझे भी सात रानीयों से शादी करना है।

माँ हँस कर बोली,

बेटा फिर तु मेरे पास नही सो पाएगा।

बेटा प्यार से बोला….

नही माँ मैं तो आपके पास ही सोउंगा ,

माँ बोली बेटा फिर रानीयां किस के पास सोेएंगी ,

बेटा : वो पापा के पास सो जाएगी।

पापा आँखों में ( खुशी के ) आँसू लाकर : मेरा प्यारा बेटा…

इंसान घने जंगल में

एक इंसान घने जंगल में भागा जा रहा था।
शाम हो गई थी।
अंधेरे में कुआं दिखाई नहीं दिया और वह उसमें
गिर गया।
गिरते-गिरते कुएं पर झुके पेड़ की एक डाल उसके
हाथ में आ गई।

जब उसने नीचे झांका, तो देखा कि कुएं में चार
अजगर मुंह खोले उसे देख रहे हैं
और जिस डाल को वह पकड़े हुए था, उसे दो चूहे
कुतर रहे थे।
इतने में एक हाथी आया और पेड़ को जोर-जोर से
हिलाने लगा।
वह घबरा गया और सोचने लगा कि हे भगवान
अब क्या होगा।
उसी पेड़ पर मधुमक्खियों का छत्ता लगा था।
हाथी के पेड़ को हिलाने से मधुमक्खियां उडऩे
लगीं और शहद की बूंदें टपकने लगीं।
एक बूंद उसके होठों पर आ गिरी।
उसने प्यास से सूख रही जीभ को होठों पर
फेरा, तो शहद की उस बूंद में गजब की मिठास
थी।
कुछ पल बाद फिर शहद की एक और बूंद उसके मुंह
में टपकी।
अब वह इतना मगन हो गया कि अपनी
मुश्किलों को भूल गया।
तभी उस जंगल से शिव एवं पार्वती अपने वाहन
से गुजरे।
पार्वती ने शिव से उसे बचने का अनुरोध
किया।
भगवान शिव ने उसके पास जाकर कहा-मैं तुम्हें
बचाना चाहता हूं। मेरा हाथ पकड़ लो।
उस इंसान ने कहा कि एक बूंद शहद और चाट लूं,
फिर चलता हूं।
एक बूंद, फिर एक बूंद और हर एक बूंद के बाद
अगली बूंद का इंतजार।
आखिर थक-हारकर शिवजी चले गए।
वह जिस जंगल में जा रहा था, वह जंगल है
दुनिया और अंधेरा है अज्ञान
। पेड़ की डाली है आयु।
दिन-रात रूपी चूहे उसे कुतर रहे हैं।
घमंड का मदमस्त हाथी पेड़ को उखाडऩे में लगा
है।
शहद की बूंदें सांसारिक सुख हैं, जिनके कारण
मनुष्य खतरे को भी अनदेखा कर देता है।
यानी, सुख की माया में खोए मन को भगवान
भी नहीं बचा सकते।

आज एक पुरानी ग़ज़ल

– आज एक पुरानी ग़ज़ल
.
जाने क्या सोचकर हमने दुनिया छोड़ दी।
काँटे बटोरते रहे और कलियाँ छोड़ दी।
.
मोहब्बत में तुमसे एक कदम आगे ही रहे।
तुमने घर छोड़ा तो हमने गलियाँ छोड़ दी।
.
हर वो शख्स झुलसा हुआ मिला मुझे यहाँ।
जिसने जंगल समझकर तहज़ीबों की बगिया
छोड़ दी।
.
दूध के क़र्ज़ को कुछ ऐसा चुकाया उसने।
खुद महल में रहा सड़क पर दुखिया छोड़ दी।
.
अपनों ने ही उस लड़की को ज़िंदा जला
दिया।
जिसने उनके लिए घर माँ बाप सखियाँ छोड़
दी।
.
लो सुनो वो तुम्हे बेवफा कहती हैं
“अनजाना”।
जिस चेहरे की खातिर तुमने कई परियाँ छोड़
दी।

एक बार एक हंस और हंसिनी हरिद्वार के

एक बार एक हंस और हंसिनी हरिद्वार के सुरम्य वातावरण से भटकते हुए, उजड़े वीरान और रेगिस्तान के इलाके में आ गये!

हंसिनी ने हंस को कहा कि ये किस उजड़े इलाके में आ गये हैं ??

यहाँ न तो जल है, न जंगल और न ही ठंडी हवाएं हैं यहाँ तो हमारा जीना मुश्किल हो जायेगा !

भटकते भटकते शाम हो गयी तो हंस ने हंसिनी से कहा कि किसी तरह आज की रात बीता लो, सुबह हम लोग हरिद्वार लौट चलेंगे !

रात हुई तो जिस पेड़ के नीचे हंस और हंसिनी रुके थे, उस पर एक उल्लू बैठा था।

वह जोर से चिल्लाने लगा।

हंसिनी ने हंस से कहा- अरे यहाँ तो रात में सो भी नहीं सकते।

ये उल्लू चिल्ला रहा है।

हंस ने फिर हंसिनी को समझाया कि किसी तरह रात काट लो, मुझे अब समझ में आ गया है कि ये इलाका वीरान क्यूँ है ??

ऐसे उल्लू जिस इलाके में रहेंगे वो तो वीरान और उजड़ा रहेगा ही।

पेड़ पर बैठा उल्लू दोनों की बातें सुन रहा था।

सुबह हुई, उल्लू नीचे आया और उसने कहा कि हंस भाई, मेरी वजह से आपको रात में तकलीफ हुई, मुझे माफ़ करदो।

हंस ने कहा- कोई बात नही भैया, आपका धन्यवाद!

यह कहकर जैसे ही हंस अपनी हंसिनी को लेकर आगे बढ़ा

पीछे से उल्लू चिल्लाया, अरे हंस मेरी पत्नी को लेकर कहाँ जा रहे हो।

हंस चौंका- उसने कहा, आपकी पत्नी ??

अरे भाई, यह हंसिनी है, मेरी पत्नी है,मेरे साथ आई थी, मेरे साथ जा रही है!

उल्लू ने कहा- खामोश रहो, ये मेरी पत्नी है।

दोनों के बीच विवाद बढ़ गया। पूरे इलाके के लोग एकत्र हो गये।

कई गावों की जनता बैठी। पंचायत बुलाई गयी।

पंचलोग भी आ गये!

बोले- भाई किस बात का विवाद है ??

लोगों ने बताया कि उल्लू कह रहा है कि हंसिनी उसकी पत्नी है और हंस कह रहा है कि हंसिनी उसकी पत्नी है!

लम्बी बैठक और पंचायत के बाद पंच लोग किनारे हो गये और कहा कि भाई बात तो यह सही है कि हंसिनी हंस की ही पत्नी है, लेकिन ये हंस और हंसिनी तो अभी थोड़ी देर में इस गाँव से चले जायेंगे।

हमारे बीच में तो उल्लू को ही रहना है।

इसलिए फैसला उल्लू के ही हक़ में ही सुनाना चाहिए!

फिर पंचों ने अपना फैसला सुनाया और कहा कि सारे तथ्यों और सबूतों की जांच करने के बाद यह पंचायत इस नतीजे पर पहुंची है कि हंसिनी उल्लू की ही पत्नी है और हंस को तत्काल गाँव छोड़ने का हुक्म दिया जाता है!

यह सुनते ही हंस हैरान हो गया और रोने, चीखने और चिल्लाने लगा कि पंचायत ने गलत फैसला सुनाया।

उल्लू ने मेरी पत्नी ले ली!

रोते- चीखते जब वह आगे बढ़ने लगा तो उल्लू ने आवाज लगाई – ऐ मित्र हंस, रुको!

हंस ने रोते हुए कहा कि भैया, अब क्या करोगे ??

पत्नी तो तुमने ले ही ली, अब जान भी लोगे ?

उल्लू ने कहा- नहीं मित्र, ये हंसिनी आपकी पत्नी थी, है और रहेगी!

लेकिन कल रात जब मैं चिल्ला रहा था तो आपने अपनी पत्नी से कहा था कि यह इलाका उजड़ा और वीरान इसलिए है क्योंकि यहाँ उल्लू रहता है!

मित्र, ये इलाका उजड़ा और वीरान इसलिए नहीं है कि यहाँ उल्लू रहता है।

यह इलाका उजड़ा और वीरान इसलिए है क्योंकि यहाँ पर ऐसे पंच रहते हैं जो उल्लुओं के हक़ में फैसला सुनाते हैं!

शायद 65 साल की आजादी के बाद भी हमारे देश की दुर्दशा का मूल कारण यही है कि हमने उम्मीदवार की योग्यता न देखते हुए, हमेशा ये हमारी जाति का है. ये हमारी पार्टी का है के आधार पर अपना फैसला उल्लुओं के ही पक्ष में सुनाया है, देश क़ी बदहाली और दुर्दशा के लिए कहीं न कहीं हम भी जिम्मेदार हैँ!

“कहानी” अच्छी लगे तो आगे भी बढ़ा दें…

Heart Touching Story

=======Heart Touching========❤❤
1 Aisi Kahani Jo Aapka Dil Hila Degi
story thodi lambi hai but must read😊
1 Deewana tha..🚶
Wo 1  se jan se jyada pyar karta tha💏
ladki ki jati aur ladke ki jati ek nahi thi…
Ladka us ladki se aksar puchta tha ki kya tum
mujhse shadi karogi …..??💍
Ladki bolti ki ”kaise mere ma papa kabhi raji nahi
honge aur mai bhag kar…… shadi nahi karungi…”🙅😪
Ladka bola ki ”thik hai jab mai apne pairo pe
khada ho jaunga tab tumhare papa se hath
mangunga tumhara…”👫
Ladki kehti ki ”shadi se kya hota hai kya shadi nhi karne se mere dil me tumhare liye pyar kam ho jayega…”😔
Ladka soch me pad jata tha. Magar vo has ke
bolta ”tum mujhe bhul jaogi…”🙇
ladki bolti ”aisa kabhi nahi hoga…”👎
waqt bitta gya..
ladke ne kuch aise kam jaan bujhkar kiye ki
ladki usse bahut jyada nafrat karne lagi….😠😡
Ladke ne uski bahen se bat ki ek din aur kaha
” mai jo bolta hu tum ise record kar lo aur jab
tumhari didi ki shadi ho jaaye to use suna
dena…….”👍
Jaisa ladke na socha tha, waisa hi hua …
ladki usse sabse jyada nafrat karne lagi…
kyuki ladka uska viswas har bar janbujhkar todta
tha….
Ladki usse is kadar nafrat karne lagi ki agr vo uske
samne aa jaye to use goli mar de…🔫🔫💣
Ladki ki shadi tay ho gai….
Dhum dham se uska vivah hua…. ladki bahut khus
thi…😊☺
shadi ke ek mahine bad vo apne mayke pahuchi..
Uski bahen ne kaha ”didi mere mob me apke liye
kuch hai kya aap sunogi …???😮
Ladki ne haste hue kaha ”ha chhoti sunao……”😊
Sound play hua
Dosto, pta hai usme kya tha……😔
Us ladke ki awaj..
””dear “Angel, ye sach hai ki tumhare bina mai
apni jindagi ki kalpana bhi nahi kar sakta… Mujhe
pata hai ki tum aaj sabse jyada mujhse nafrat karti
ho… Lekin mai tumhe kuch
mahino ka dard deke
hamesha khush dekhna chahta tha mujhe khusi hai
ki tum khus ho mujhe bhulkar, mai yahi chahta
tha..
ki tum mere liye apni zindagi mere yaad me na
gujar do…maine tumse jo bhi badtamiji ki thi uske
liye dil
se mai mafi mangata hu… Mai nahi chahta tha ki
meri “ANGEL” mere jaise
ke liye apni zindagi ki khusi ko khatm kar
de..
Tum apne maa papa ki najro mein ab bhi uthi hui
ho aur unhe hamare relation se koi taklif bhi nahi
hui.. is se badi khusi mere liye kya hogi… apni
jindagi ko hamesha haste hue gujarna
meri parvah kiye bina…. Mai Tumse ab bhi waise hi
Pyar Karta hu apna khyaal rakhna Jaan””😊💘💔❤😪
kamre me sanatta aur siski ki awj…
ladki ke aankho se aansu ki dhar beh nikli thi…😭😭😭
vo gusse me aakar apni chhoti bahen ko chikhte
hue boli ki
tumne aisa kyu kiya, pehle kyu nahi bataya…😭😡😪
Vo bechari chhoti kya kar sakti vo toh kasam ke
dhage se bandhi jo the us ladke ke…😔😔😞
ladki haath jodte hue boli ki ”chhoti agar tum meri
bahen ho to please usko call lagao….please chhoti
use calll lagao…”😪😞😪
Chhoti bhi apni didi ke aansu se pighal gayi
usne ..call lagaya..
Call ki awaj
..trinnnng…📞
…trinnnng,..📞
…trinnnng…📞
…trinnnng…📞
kisi ne call uthaya📞
Ladki – hello ,           Ladke ki ma- hello kaun’….?
Ladki- anuti mai Diksha, vivs kaha hai pliz meri
usse baat karwa dijiye…😞😞              Ladke ki ma- (rote hue..)
kisse “vivian” se…???😢😢
Ladki – ha aunty mere “vivi” se..😪😪
Ladke ki ma– mera beta is duniya me nahi hai
usne sucide kar liya…😭😭😭
Larki- (rote hue) aunti …
…kaise aur kab?? Kaise….h…u. ..aa ye sab….😞😱😭😭
Ladke ki ma- beti vo bahut udas ho gaya tha jab
dekho tab kehta tha ki ”ek garib ke pyar aur sapne
ki koi aukat nahi hoti”
FAASI LAGA li thi Usne pata nahi koun sa usne
apni jindagi me kam kiya jo use aisa bana diya
( rone ki aawaj aur tej ho gai thi)😭😫😭
Ladki- aunty kab kitne taarikh ko
( larki ke bhi aawaj nahi nikal rahi thi gala rindha
hua tha)😤😪
Ladke ki ma- 17July ko… 📅                      Ladki – kya…..????😱
(vo achanak jamin par gir padi)😞😞😞      bbb b
pata hai Dosto 17 July ko ladke ki mout se kya
Rishta tha..???
Kyuki Dosto, ye 17 July wo hi taarikh thi Jis Din
ladki ki shadi thi…..😞😞💔💔😭😭                      Ye msg 17 logo ko forward kro agar aap kisi se jaan se jyada pyar karte hain aur use khona nahi chahte🙅                   Aapko apne pyar ki kasam hai…..👫

एक दिन एक कौवे के

😡😡😡😡😡😡😡😡😡😡
एक दिन एक कौवे के
बच्चे ने कौवे से कहा कि हमने
लगभग हर चार पैर वाले जीव का
माँस खाया है, मगर आजतक
दो पैर पर चलने वाले
जीव का माँस नहीं खाया है..

पापा कैसा होता है इंसानों
का माँस?

कौवे ने कहा मैंने जीवन
में तीन बार खाया है,
बहुत स्वादिष्ट होता है..

कौवे के बच्चे ने कहा मुझे
भी खाना है..

कौवे ने थोड़ी देर सोचने के बाद
कहा चलो खिला देता हूँ..
बस मैं जैसा कह रहा हूँ वैसे ही करना..
मैंने ये तरीका अपने पुरखों
से सीखा है..

कौवे ने अपने बेटे को
एक जगह रुकने को कहा और थोड़ी देर बाद माँस के दो
टुकड़े उठा लाया..

कौवे के बच्चे ने खाया तो
कहा की ये तो सूअर के
माँस जैसा लग रहा है..

कौवे ने कहा अरे ये खाने के
लिए नहीं है..
इस से ढेर सारा माँस बनाया
जा सकता है..
जैसे दही जमाने के लिए
थोड़ा सा दही दूध में डाल
कर छोड़ दिया जाता है,
वैसे ही इसे छोड़ कर
आना है..
बस देखना कल तक
कितना स्वादिष्ट माँस मिलेगा,
वो भी मनुष्य का..

बच्चे को बात समझ में
नहीं आई मगर वो कौवे का
जादू देखने के लिए उत्सुक था..

कौवे ने उन दो माँस के टुकड़ों में से एक टुकड़ा एक मंदिर में
और दूसरा पास की
एक मस्जिद में टपका दिया..

तब तक शाम हो चली थी,
कौवे ने कहा अब कल
सुबह तक हम सभी को ढेर
सारा दो पैर वाले जानवरों का
माँस मिलने वाला है..

सुबह सवेरे कौवे और बच्चे
ने देखा तो सचमुच गली-गली में मनुष्यों की कटी और जली लाशें बिखरी पड़ीं थीं..

हर तफ़र सन्नाटा था..
पुलिस सड़कों पर घूम रही थी..
कर्फ्यू लगा हुआ था..

आज कौवे के बच्चे ने कौवेे से
दो पैर वाले जानवर का शिकार
करना सीख लिया था..

कौवे के बच्चे ने पूछा अगर
दो पैर वाला मनुष्य हमारी
चालाकी समझ गया तो
ये तरीका बेकार हो जायेगा..

कौवे ने कहा सदियाँ
गुज़र गईं मगर आज तक
दो पैर वाला जानवर हमारे इस
जाल में फंसता ही आया है..

सूअर या बैल के माँस का एक टुकड़ा, हजारों दो पैर वाले जानवरों को पागल कर देता है,

वो एक दूसरे को मारने लग जाते हैं और हम आराम से उन्हें खाते हैं..
मुझे नहीं लगता कभी उसे इतनी अक़ल आने वाली है..

कौवे के बेटे ने कहा क्या
कभी किसी ने इन्हें समझाने की कोशिश नहीं की..

कौवे ने कहा एक बार एक ने
इन्हें समझाने की कोशिश की थी,
मनुष्यों ने उसे सेकुलर सेकुलर
कह के मार दिया..
😡😡😡😡😡😡😡😡😡😡……

Ek chidiya ko safed gulab se pyaar ho gaya

❤❤❤
Ek chidiya ko safed gulab se pyaar ho gaya,
usne gulab ko propose kiya,
gulab ne jawab diya ki jis din main lal ho
jaunga us din main tumse pyaar karunga,
jawab sunke chidiya gulab ke aas-pass katon
mein lotne lagi
aur uske khun se gulab lal ho gaya,
ye dekhke gulab ne
bhi usse kaha ki wo usse pyaar karta hai
par tab tak chidiya mar chuki thi.
isiliye kaha gaya hai ki sacche pyaar ka kabhi
inthaan nahi lena ❤❤❤

Ye 1 darawni kahani hai

Ye 1 darawni kahani hai,
kamjor dil wale ise na pade..!!

Barsat ki 1 raat me 1 budha aadmi hath me 1kitab bechne ke liye khda tha,
1 aadmi aaya aur usne vo kitab 3000/- mein kharid li

Budhe aadmi ne kitab de ke kaha:
Jab tk koi musibat na aye kitab ka LAST PAGE mat dekna.

Aadmi ne kitab puri pad li lekin
dar ke karan last page nahi khola.

1 din usse raha nahi gaya
aur last page khol ke dekh hi liya aur sadme se mar gya..

last page par likha tha..

.

.

.

MRP-Rs 15/- only!

एक हसीन लडकी राजा के

एक हसीन लडकी राजा के
दरबार में डांस कर
रही थी..
.
(राजा बहुत बदसुरत था)
.
लडकी ने राजा से एक
एक सवाल पूछने की इजाजत
मांगी…
.
राजा ने कहा, ‘चलो पुछो.’
.
लडकी ने कहा,
‘जब हुस्न बंट रहा था
तब आप कहां
थे..??
.
राजा ने गुस्सा नही
किया
बल्कि मुस्कुराते हुवे कहा

‘जब तुम हुस्न की लाइन्
में खडी
हुस्न ले रही थी,
.
तो मैं किस्मत की
लाइन में खडा किस्मत ले
रहा था….
.
और देख आज तुझ जेसी
हुस्न वालीयां मेरे दरबार में
गुलाम की तरह
नाच रही है..
.
इसलिऐ किसी शायर ने बहुत
खुब कहा है,
.
“हुस्न ना मांग
नसीब मांग ए दोस्त,
हुस्न वाले तो
अक्सर
नसीब वालों के गुलाम
हुआ करते है..

A Sweet Story

A Sweet Story..
A Bird asks a Bee..” After such a hard work, you make honey. But Man steal your Honey from you. Do you not feel Sad?
Bee responds: “Never.! One can steal my honey, but one can never steal the art of making honey from me.”
“Living for self is part of living; Living for others is The Art Of living.”

Good morning all..

एक गरीब था जिसमे 5 लोग थे

एक गरीब था जिसमे 5 लोग थे…..
माँ बाप और 3 बच्चे
बाप हमेशा बीमार रहता था |
एक दिन वो मर गया !
3 दिन तक पड़ोसियों ने खाना भेजा बाद में भूखे
रहने के दिन आ गए…..|
माँ ने कुछ दिन तक जैसे-तैसे
बच्चों को खाना खिलाया |
लेकिन कब तक आखिर फिर से भूखे रहना पड़ा !
जिसकी वजह से 8 साल का बेटा बीमार
हो गया और बिस्तर पकड़ लिया……
एक दिन 5 साल की बच्ची ने माँ के कान में पूछा।

माँ भाई कब मरेगा….??
.
माँ ने तड़प कर पूछा ऐसा क्यों पूछ रही हो…..??
.
बच्ची ने बड़ी मासूमियत से जवाब दिया,
जिसे सुन कर आप की आँखों में आँसु आ जायेंगे…….
.
.
बच्ची का जवाब था |
“माँ भाई मरेगा तो घर में खाना आएगा ना !”….
.
.
.
भाइयो और बहनो, आपके माल में
गरीबो का भी हक है |
.
गरीबो की मदद करे जो दुसरो के मोहताज़ है ..
अगर आप हर massege, Shaayri SHARE करते हो…
थोडा टाइम निकाल कर इस पोस्ट
को भी SHARE कर दीजिये
.
भगवान हम सब की मुसीबत टाल दे…
और जो कोई भी इस मेसेज को आगे बढ़ा रहा है !
भगवान उसकी हर परेसानी को दूर करे..

एक ग़ुलाम था एक दिन वह

एक ग़ुलाम था एक दिन वह
काम पर नहीं गया.मालिक ने
सोचा इस कि तन्खोआह बढ़ा
दी जाये तो यह और दिल्चसपी
से काम करेगा.अगली बार जब
उस को तन्खोआह से ज़्यादा
पैसे दिये तो उस ने कुछ नही
बोला ख़ामोशी से पैसे रख लिये
……….कुछ दिन बाद वह फिर
ग़ैर हाज़िर हो गया.मालिक को
बहुत ग़ुस्सा आया और उस ने
बढ़ी हुई तन्खोआह कम करदी
और उस को पहले वाली ही
तन्खोआह दी.
……….ग़ुलाम ने तब भी
खामोशी ही इख़्तयार की.
और ज़बान से कुछ ना
बोला….तब मालिक को
बड़ा ताज्जुब हुआ. उस
ने ग़ुलाम से कहा की जब
मै ने तुम्हारे ग़ैर हाज़िर होने
के बाद तुम्हारी तन्खोआह
बढा कर दी .तब तुम कुछ
नही बोले और आज तुम्हारी
ग़ैर हाज़री पर तन्खोआह कम
कर के दी तब भी तुम खामोश
ही रहे.इस की क्या वजह है..?
…..ग़ुलाम ने जवाब दिया
जब मै पहले ग़ैर हाज़िर हुआ
था तो मेरे घर एक बच्चा
हुआ था आप ने तन्खोआह
बढ़ा कर दी मै समझ गया..
अल्लाह ने इस के हिस्से
का रिज़क़ भेज दिया.इस की
किसमत का रिज़क़ खुदा
ने भेज दिया.
….और जब दोबारा मै ग़ैर
हाजिर हुआ तो जनाब मेरी
वाल्दाह का इन्तिक़ाल
हो गया था..जब आप ने
मुझ को तन्खोआह कम दी
तो मै ने यह मान लिया की
मेरी मॉं अपने हिस्से का
रिज़क़ ले गयीं..
……..फिर मै इस रिज़क़ की
ख़ातिर क्यों परेशान होऊँ
जिस का ज़िम्मा ख़ुद ख़ुदा
ने ले रखा हो…
सब को शेयर करें बहुत मेहनत
से लिखा है..
‬: सदक़ा : जब इंसान अपने हाथ से सदक़ा देता है, तो वो सदक़ा उस वक़्त 5 जुमले कहता है .
(1) मैं फानी माल था तूने मुझे ज़िन्दगी देदी .
(2) मैं तेरा दुश्मन था अब तूने मुझे दोस्त बना लिया .
(3) आज से पहले तू मेरी हिफाज़त करता था, अब मैं तेरी हिफाज़त करूँगा .
(4) मैं हक़ीर था तूने मुझे अज़ीम बना दिया .
(5) पहले मैं तेरे हाथ में था अब मैं “अल्लाह” के हवाले हूँ .
(हर अच्छी बात को दूसरों तक पहुँचाना भी सदक़ा है .)

एक औरत थी जो अंधी थी

एक औरत थी,
जो अंधी थी,
जिसके कारण उसके बेटे को स्कूल
में बच्चे चिढाते थे,
कि अंधी का बेटा आ गया,
हर बात पर उसे ये शब्द सुनने
को मिलता था कि “अन्धी का बेटा” .
इसलिए वो अपनी माँ से चिडता था . उसे
कही भी अपने
साथ लेकर जाने में
हिचकता था
उसे नापसंद करता था..
उसकी माँ ने उसे पढ़ाया..
और उसे इस लायक बना दिया की वो अपने पैरो पर
खड़ा हो सके..
लेकिन जब वो बड़ा आदमी बन
गया तो अपनी माँ को छोड़
अलग रहने लगा..
एक दिन एक बूढी औरत उसके घर
आई और गार्ड से बोली..
मुझे तुम्हारे साहब से मिलना है जब गार्ड ने अपने मालिक से
बोल तो मालिक ने कहा कि बोल
दो मै अभी घर पर नही हूँ.
गार्ड ने जब बुढिया से
बोला कि वो अभी नही है..
तो वो वहा से चली गयी..!!
थोड़ी देर बाद जब लड़का अपनी कार से
ऑफिस के लिए
जा रहा होता है..
तो देखता है कि सामने बहुत भीड़
लगी है..
और जानने के लिए कि वहा क्यों भीड़
लगी है वह
वहा गया तो देखा उसकी माँ वहा मरी पड़ी थी..
उसने
देखा की उसकी मुट्ठी में
कुछ है उसने जब
मुट्ठी खोली तो देखा की एक
लेटर जिसमे यह
लिखा था कि बेटा जब तू छोटा था तो खेलते वक़्त
तेरी आँख में सरिया धंस
गयी थी और तू
अँधा हो गया था तो मैंने तुम्हे
अपनी आँखे दे दी थी..
इतना पढ़ कर लड़का जोर-जोर से
रोने लगा..
उसकी माँ उसके पास नही आ
सकती थी..
दोस्तों वक़्त रहते ही लोगो की वैल्यू
करना सीखो..
माँ-बाप का कर्ज हम
कभी नही चूका सकत..
हमारी प्यास का अंदाज़ भी अलग है
दोस्तों,
कभी समंदर को ठुकरा देते है,
तो कभी आंसू तक पी जाते है..!!!
“बैठना भाइयों के बीच,
चाहे “बैर” ही क्यों ना हो..
और खाना माँ के हाथो का,
चाहे “ज़हर” ही क्यों ना हो..!!…
अगर आप अपनी माँ को बेहद प्यार करते है तो ये मैसज को इतना फेला ओ जितना तुम अपनी माॅ। को चाहतें हो
आगे Forward करें..

पानी ने दूध से मित्रता की और

पानी ने दूध से मित्रता की और उसमे समा गया,
जब दूध ने पानी का समर्पण देखा तो उसने कहा,
मित्र तुमने अपने स्वरुप का त्याग कर मेरे स्वरुप
को धारण किया है अब मैं
भी मित्रता निभाऊंगा और तुम्हे अपने मोल
बिकवाऊंगा,
दूध बिकने के बाद जब उसे उबाला जाता है तब
पानी कहता है अब मेरी बारी है मै
मित्रता निभाऊंगा और तुमसे पहले मै
चला जाऊँगा और दूध से पहले
पानी उड़ता जाता है जब दूध मित्र को अलग
होते देखता है तो उफन कर गिरता है और आग
को बुझाने लगता है,
जब पानी की बूंदे उस पर छींट कर उसे अपने मित्र से
मिलाया जाता है तब वह फिर शांत
हो जाता है पर इस अगाध प्रेम में
थोड़ी सी खटास (निम्बू की दो चार बूँद ) डाल
दी जाए तो दूध और पानी अलग हो जाते हैं
थोड़ी सी मन कI खटास अटूट प्रेम
को भी मिटा सकती है…
दोस्तों कभी भी कुछ हो जाये रिश्तो में मन
मुटाव ना आने दे छोटी सी गलतफहमी भी आपके
रिश्तो में दरार ला सकती हैं।
दोस्तों आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी हमे
अबश्य बताएं और शेयर करके अपने
दोस्तों को भी पढवाये।

टीपू सुल्तान की शहादत

टीपू सुल्तान की शहादत
को मेरा सलाम।
हिन्दुस्तान की शान और मैसूरj का शेर ।
इतिहास से मुसलमान शहीदो का नाम
हटाया जा रहा है ।
कोई ऐसा नही जो शहीद टीपू सुल्तान
को ना जानता हो ।
20-11-1750 को इस शेर ने हैदर अली-
फातिमा फख्रुन्निसा के घर मे जन्म
लिया ।
और मात्र 48 साल की उम्र मे 4-5-1799
को बहुत इज्ज़त के साथ एक धोखेबाज़
की गद्दारी से इस दुनिया से
विदा हो गये ।
टीपू पहले इंसान हैं जिन्होने उस ज़माने मे
मिसाइल जैसे हथियार
को बना लिया था ।
टीपू सुल्तान के नाम से
पूरी अंग्रेजी हुकूमत काँपती थी ।
अंग्रेज़ खुद कहते थे कि जब तक टीपू है हम
हिन्दुस्तान को पूरी तरह से गुलाम
नही बना सकते ।
जब अंग्रेज टीपू को मात नही कर पाये
तो उनहोने एक हिन्दू फौजी को खरीद
लिया ।
टीपू हर अपने पर भरोसा करते थे
तो इसी भरोसे के चलते वो अंग्रेजो से
मुकाबला करते रहे ।
आखिर मे उस गद्दार की गद्दारी काम
आई और टीपू रंगा पटनम के मैदान मे
मुकाबला करते हुवे शहीद हो गये,,, मगर
दुशमन को इतनी दहशत थी कि टीपू के
शरीर को चैक करने की भी हिम्मत
नही जुटा पाये ।
आखिर 3 दिन बाद जब टीपू के शहीद
होने की तस्दीक की तब अंग्रेजो के मुँह पर
एक ही बात थी,,, आज हम कामयाब
हो गये, अब हम हिन्दुस्तान
को आसानी से गुलाम बना सकते हैं ।
दोस्तो ये है शहीद टीपू सुल्तान
की मुख्तसर कहानी, वो उलेमा-ए-दीन
थे,,, वली अल्लाह थे,,, नेक-परहेज़गार बंदे थे

आज इतिहास से देश के लिये
मुसलमानो की कुर्बानी को प्लानिंग
के साथ खत्म किया जा रहा है ।
मगर सच सच ही रहेगा ।
जो आप जानते हो वो आने
वाली नस्लो को ज़रुर बताये,,, सिर्फ
एक यही तरीका है कि हम
अपनो का इतिहास अगले अपनो तक
पहुँचाये ।
share the post,

एक चिड़िया और चिड़ा की प्रेम कहानी

एक चिड़िया और चिड़ा की प्रेम
कहानी
—————————— ———
एक दिन चिड़िया बोली – मुझे छोड़ कर कभी उड़ तो नहीं जाओगे ?

चिड़ा ने कहा – उड़
जाऊं तो तुम पकड़ लेना.

चिड़िया-मैं तुम्हें पकड़
तो सकती हूँ,
पर फिर पा तो नहीं सकती!

यह सुन चिड़े की आँखों में आंसू आ गए और उसने अपने पंख तोड़ दिए और बोला अब हम
हमेशा साथ रहेंगे,

लेकिन एक दिन जोर से तूफान आया,
चिड़िया उड़ने लगी तभी चिड़ा बोला तुम उड़
जाओ मैं नहीं उड़ सकता !!

चिड़िया- अच्छा अपना ख्याल रखना, कहकर
उड़ गई !

जब तूफान थमा और चिड़िया वापस
आई तो उसने देखा की चिड़ा मर चुका था
और एक डाली पर लिखा था…..
“”काश वो एक बार तो कहती कि मैं तुम्हें
नहीं छोड़ सकती””
तो शायद मैं तूफ़ान आने से
पहले नहीं मरता ।।
“”

दोस्तों अगर आपको यह स्टोरी पसंद आये तोह अपने दोस्तों में शेयर करना मत भूलना “”
ज़िन्दगी के पाँच सच ~
सच नं. 1 -:
माँ के सिवा कोई वफादार नही हो सकता…!!!
────────────────────────
सच नं. 2 -:
गरीब का कोई दोस्त नही हो सकता…!!
────────────────────────
सच नं. 3 -:
आज भी लोग अच्छी सोच को नही,
अच्छी सूरत को तरजीह देते हैं…!!!
────────────────────────
सच नं. 4 -:
इज्जत सिर्फ पैसे की है, इंसान की नही…!!!
────────────────────────
सच न. 5 -:
जिस शख्स को अपना खास समझो….
अधिकतर वही शख्स दुख दर्द देता है…!!!

एक बार एक ब्राहमण मर गया

एक बार एक ब्राहमण मर गया,
वो स्वर्ग के वेटिंग लाइन में खडा था
उनके आगे एक काला चश्मा😎 जींस, लेदर जैकेट पहन कर लडका खडा था👞👓👖
धर्म राज लडके से : कौन हो तुम?
लड़का : मैं एक बस ड्राइवर हूँ
धम॔राज : ये लो सोने की शाल और अंदर आ आकर गोल्डन रूम ले लो
धम॔राज ब्राहमण से : कौन हो तुम?
पादरी : मैं ब्राहमण हूँ, और 40 सालो से लोगों को भगवान के बारे में बताया करता था
धम॔राज : ये लो सूती वस्त्र और अंदर आ जाओ
ब्राहमण : भगवान, ये गलत है😕 ये तेज गति से गाड़ी चलाने वाले को सोने की शाल और जिसने पूरा जीवन भगवान का ज्ञान दिया उसे सूती वस्त्र?
धम॔राज : परिणाम मेरे बच्चे परिणाम…
जब तुम ज्ञान देते थे सभी भक्त सोते रहते थे😴😴😴😴
लेकिन जब यह बस तेज गति से चलाता था तब लोग सच्चे मन से भगवान को याद करते थे😀
हमेशा performance देखी जाती है position नही😂😜

एक बार एक लड़का

💝एक बार एक लड़का
💝अपने स्कूल की फीस भरने के लिए
💝एक दरवाजे से
💝दूसरे दरवाजे तक
💝कुछ सामान बेचा करता था,

💛एक दिन उसका
💛कोई सामान नहीं बिका
💛और उसे बड़े जोर से
💛भूख भी लग रही थी.
💛उसने तय किया कि
💛अब वह जिस भी दरवाजे पर जायेगा,
💛उससे खाना मांग लेगा…

❤पहला दरवाजा खटखटाते ही
❤एक लड़की ने दरवाजा खोला,
❤जिसे देखकर वह घबरा गया
❤और बजाय खाने के उसने
❤पानी का एक गिलास माँगा….

💙लड़की ने भांप लिया था कि
💙वह भूखा है, इसलिए वह
💙एक.. बड़ा गिलास दूध का ले आई.
💙लड़के ने धीरे-धीरे दूध पी लिया…

💚” कितने पैसे दूं ?”
💚लड़के ने पूछा.
💚” पैसे किस बात के ?”
💚लड़की ने जवाव में कहा.
💚”माँ ने मुझे सिखाया है कि
💚जब भी किसी पर दया करो तो
💚उसके पैसे नहीं लेने चाहिए.”

💘”तो फिर मैं आपको
💘दिल से धन्यवाद देता हूँ.”
💘जैसे ही उस लड़के ने वह घर छोड़ा,
💘उसे न केवल शारीरिक तौर पर
💘शक्ति भी मिल चुकी थी ,
💘बल्कि उसका भगवान् और
💘आदमी पर भरोसा और भी बढ़ गया था

💔सालों बाद वह लड़की
💔गंभीर रूप से बीमार पड़ गयी.
💔लोकल डॉक्टर ने उसे
💔शहर के बड़े अस्पताल में
💔इलाज के लिए भेज दिया…

💜विशेषज्ञ डॉक्टर होवार्ड केल्ली को 💜मरीज देखने के लिए बुलाया गया.
💜जैसे ही उसने लड़की के
💜कस्बे का नाम सुना,
💜उसकी आँखों में चमक आ गयी…

💖वह एकदम सीट से उठा
💖और उस लड़की के कमरे में गया.
💖उसने उस लड़की को देखा,
💖एकदम पहचान लिया और
💖तय कर लिया कि वह
💖उसकी जान बचाने के लिए
💖जमीन-आसमान एक कर देगा….

🌹उसकी मेहनत और लग्न रंग लायी
🌹और उस लड़की कि जान बच गयी.
🌹डॉक्टर ने अस्पताल के
🌹ऑफिस में जा कर उस
🌹लड़की के इलाज का बिल लिया….

🌻उस बिल के कौने में
🌻एक नोट लिखा और
🌻उसे उस लड़की के पास
🌻भिजवा दिया.
🌻लड़की बिल का
🌻लिफाफा देखकर घबरागयी…

💐उसे मालूम था कि
💐वह बीमारी से तो वह बच गयी है
💐लेकिन बिल कि रकम
💐जरूर उसकी जान ले लेगी…

🍀फिर भी उसने धीरे से बिल खोला,
🍀रकम को देखा और फिर
🍀अचानक उसकी नज़र बिल के
🍀कौने में पैन से लिखे नोट पर गयी…

🌸जहाँ लिखा था,
🌸”एक गिलास दूध द्वारा इस बिल का 🌸भुगतान किया जा चुका है.
🌸” नीचे उस नेक डॉक्टर
🌸होवार्ड केल्ली के हस्ताक्षर थे.

🌺ख़ुशी और अचम्भे से
🌺उस लड़की के गालों पर आंसू टपक पड़े
🌺उसने ऊपर कि और दोनों हाथ उठा कर
🌺कहा, ” हे भगवान..!
🌺आपका बहुत-बहुत धन्यवाद..
🌺आपका प्यार इंसानों के
🌺दिलों और हाथों के द्वारा
🌺न जाने कहाँ- कहाँ फैल चुका है.”

🌷अगर आप दूसरों पर..
🌷अच्छाई करोगे तो..
🌷आपके साथ भी.. अच्छा ही होगा ..!!

✌अब आपको दो में से
☝एक चुनाव करना है…!
👍या तो आप इसे शेयर करके
✊इस सन्देश को हर जगह पहुंचाएँ..! या

👋अपने आप को समझा लें कि
👎इस कहानी ने आपका दिल नहीं छूआ..!

पिताजी के अचानक आ धमकने से पत्नी तमतमा उठी

पिताजी के अचानक आ धमकने से पत्नी तमतमा उठी….“लगता है, बूढ़े को पैसों की ज़रूरत आ पड़ी है,

वर्ना यहाँ कौन आने वाला था… अपने पेट का गड्ढ़ा भरता नहीं, घरवालों का कहाँ से भरोगे ?”

मैं नज़रें बचाकर दूसरी ओर देखने लगा।

पिताजी नल पर हाथ-मुँह धोकर सफ़र की थकान दूर कर रहे थे।

इस बार मेरा हाथ कुछ ज्यादा ही तंग हो गया।

बड़े बेटे का जूता फट चुका है।वह स्कूल जाते वक्त रोज भुनभुनाता है।

पत्नी के इलाज के लिए पूरी दवाइयाँ नहीं खरीदी जा सकीं।

बाबूजी को भी अभी आना था।
घर में बोझिल चुप्पी पसरी हुई थी।
खाना खा चुकने पर
पिताजी ने मुझे पास बैठने का इशारा किया।

मैं शंकित था कि कोई आर्थिक समस्या लेकर आये होंगे….
पिताजी कुर्सी पर उठ कर बैठ गए। एकदम बेफिक्र…!!!

“ सुनो ” कहकर उन्होंने मेरा ध्यान अपनी ओर खींचा।
मैं सांस रोक कर उनके मुँह की ओर देखने लगा।

रोम-रोम कान बनकर
अगला वाक्य सुनने के लिए चौकन्ना था।

वे बोले… “ खेती के काम में घड़ी भर भी फुर्सत नहीं मिलती।इस बखत काम का जोर है।

रात की गाड़ी से
वापस जाऊँगा। तीन महीने से तुम्हारी कोई चिट्ठी तक
नहीं मिली… जब तुम
परेशान होते हो,

तभी ऐसा करते हो।
उन्होंने जेब से सौ-सौ के पचास
नोट निकालकर मेरी तरफ बढ़ा दिए, “रख लो।
तुम्हारे काम आएंगे। धान की फसल अच्छी हो गई थी।

घर में कोई दिक्कत नहीं है तुम बहुत कमजोर लग रहे हो।ढंग से खाया-पिया करो। बहू का भी ध्यान रखो।

मैं कुछ नहीं बोल पाया।
शब्द जैसे मेरे हलक में फंस कर रह गये हों।

मैं कुछ कहता इससे पूर्व ही पिताजी ने प्यार
से डांटा…“ले लो, बहुत बड़े हो गये हो क्या ..?”

“ नहीं तो।” मैंने हाथ बढ़ाया। पिताजी ने नोट मेरी हथेली पर रख दिए।
बरसों पहले पिताजी मुझे स्कूल भेजने
के लिए इसी तरह हथेली पर अठन्नी टिका देते थे,

पर तब
मेरी नज़रें आजकी तरह झुकी नहीं होती थीं।
दोस्तों एक बात हमेशा ध्यान रखे…

माँ बाप अपने बच्चो पर बोझ हो सकते हैं बच्चे उन पर बोझ कभी नही होते है।
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

एक छोटी प्यारी बच्ची दुकानदार से बौली

Cute story
😄😄😄
एक छोटी प्यारी बच्ची दुकानदार से बौली –
जब मै बडी हो जाउगी तो आप अपने बेटे की शादी मुझसे करेंगे ?

दुकानदार मुस्कराते हुए बोला-
हाँ जरूर करूँगा…..!!!

बच्ची बोली –
तो अपने होने वाली बहू को डेरी मिल्क दो !
😄😄

एक बेटा पढ़-लिख कर बहुत बड़ा

एक बार जरुर पढ़े….! (अच्छी लगे तो शेयर करें)

एक बेटा पढ़-लिख कर बहुत बड़ा आदमी बन गया .
पिता के स्वर्गवास के बाद माँ ने
हर तरह का काम करके उसे इस काबिल बना दिया था.

शादी के बाद पत्नी को माँ से शिकायत रहने लगी के
वो उन के स्टेटस मे फिट नहीं है.
लोगों को बताने मे उन्हें संकोच होता है कि
ये अनपढ़ उनकी सास-माँ है…!

बात बढ़ने पर बेटे ने…एक दिन माँ से कहा..

” माँ ”_मै चाहता हूँ कि मै अब इस काबिल हो गयाहूँ कि कोई
भी क़र्ज़ अदा कर सकता हूँ
मै और तुम दोनों सुखी रहें
इसलिए आज तुम मुझ पर किये गए अब तक के सारे
खर्च सूद और व्याज के साथ मिला कर बता दो .
मै वो अदा कर दूंगा…!

फिर हम अलग-अलग सुखी रहेंगे.
माँ ने सोच कर उत्तर दिया…

“बेटा”_हिसाब ज़रा लम्बा है….सोच कर बताना पडेगा मुझे.
थोडा वक्त चाहिए.

बेटे ने कहा माँ कोई ज़ल्दी नहीं है.
दो-चार दिनों मे बता देना.

रात हुई,सब सो गए,
माँ ने एक लोटे मे पानी लिया और बेटे के कमरे मे आई.
बेटा जहाँ सो रहा था उसके एक ओर पानी डाल दिया.
बेटे ने करवट ले ली.
माँ ने दूसरी ओर भी पानी डाल दिया.
बेटे ने जिस ओर भी करवट ली माँ उसी ओर पानी डालती रही.

तब परेशान होकर बेटा उठ कर खीज कर.
बोला कि माँ ये क्या है ?
मेरे पूरे बिस्तर को पानी-पानी क्यूँ कर डाला..?

माँ बोली….

बेटा….तुने मुझसे पूरी ज़िन्दगी का हिसाब बनानें को कहा था.
मै अभी ये हिसाब लगा रही थी कि मैंने कितनी रातें तेरे बचपन मे
तेरे बिस्तर गीला कर देने से जागते हुए काटीं हैं.
ये तो पहली रात है
ओर तू अभी से घबरा गया ..?

मैंने अभी हिसाब तो शुरू
भी नहीं किया है जिसे तू अदा कर पाए…!

माँ कि इस बात ने बेटे के ह्रदय को झगझोड़ के रख दिया.
फिर वो रात उसने सोचने मे ही गुज़ार दी.
उसे ये अहसास हो गया था कि माँ का
क़र्ज़ आजीवन नहीं उतरा जा सकता.

माँ अगर शीतल छाया है.
पिता बरगद है जिसके नीचे बेटा उन्मुक्त भाव से जीवन बिताता है.
माता अगर अपनी संतान के लिए हर दुःख उठाने को तैयार रहती है.
तो पिता सारे जीवन उन्हें पीता ही रहता है.

हम तो बस उनके किये गए कार्यों को
आगे बढ़ाकर अपने हित मे काम कर रहे हैं.
आखिर हमें भी तो अपने बच्चों से वही चाहिए ना ……..!
1) अगर लगातार दौडने से लक्ष्मी मिलती तो,
आज कुत्ता लक्ष्मीपति होता…..

2) मौत रिश्वत नही लेती लेकिन,
रिश्वत मौत ले लेती है…..

3)काम मेँ ईश्वर का साथ मांगो लेकिन,
ईश्वर काम कर दे ऐसा मत मांगो……

4) कडवा सत्य एक गरीब पेट के लिए सुबह
जल्दी उठकर दोडता है और एक अमीर पेट
कम करने के लिए सुबह जल्दी उठकर
दौडता है..

5) 50 रुपे मेँ 1 लीटर कोल्डंड्रीक आती है..
जिसमे स्वाद और पोषण जीरो.. और
कमाता कौन? मल्टीनेशनल कम्पनिया और
उसके सामने 50 रुपे मे 1 किलो फल आते
है स्वाद भरपुर और पोषण लाजवाब और
कमाता कौन? धुप मेँ,सर्दी मेँ,बरसात मेँ
लारी लेकर घुमता अपना एक गरीब
भारतवासी..

6) सबंध भले थोडा रखो लेकिन,एसा रखो
कि शरम किसी की झेलनी ना पडे मौत
के मुह से जिदंगी बरस पडे और मरने
के बाद शमशान की राख भी रो पडे..

7) जब तालाब भरता है तब,मछलीया
चीटीँयो को खाती है और जब तालाब
खाली होता है तब चीटींया मछलियो
को खाती है, मौका सबको मिलता है
बस अपनी बारी का इन्तजार करो..

8)दुनिया मेँ दो तरह के लोग होते है.. एक
जो दुसरो का नाम याद रखते है और
दुसरा जिसका नाम दुसरे याद रखते है..

9) सुख मेँ सुखी हो तो दु:ख भोगना सिखो
जिसको खबर नही दु:ख की तो सुख
का क्या मजा.?

10) जीवन मेँ कुछ बडा मिल जाए तो छोटे
को मत भुलना.. क्योकिँ जहा सुई काम
हो वहा तलवार काम नही आती..

11) माँ-बाप का दिल दुखाकर आजतक
दुनिया मेँ कोई सुखी नही हुआ..

12) भगवान का उपकार है कि आँसुऔ को रंग
नही दिया वरना रात को भींगा तकिया सवेरे
कुछ ना कुछ भैद खोल देता..

13) जो इंसान प्रेम मेँ निष्फल होता है
वो जिदगी मे सफल होता है..

14) आज करे कल कर कल करे
सो परसो ईतनी भी क्या जल्दी है जब
जीना है बरसो..

15) दुनिया का सबसे कीमती प्रवाही
कौनसा है? आँसु जिसमेँ 1%पानी
और 99% भावनाए होती है..

16) दुनिया का सबसे अमीर आदमी भी
माँ के. बिना गरीब है..

17) गुस्से मे आदमी कभी कभी व्यर्थ बाते
करता है, तो कभी मन की बात भी
बोल देता है..

18) भगवान खडा है तुझे सब कुछ देने के
लिए लेकिन तु चम्मच लेकर खडा है
पुरा सागर माँगने के लिए..

19) आप यह पोस्ट पढ रहे
हो ईसका असतित्व
आप के माँ बाप है…

एक बहुत बड़ा सरोवर था।

एक बहुत बड़ा सरोवर था। उसके तट पर मोर
रहता था, और वहीं पास एक
मोरनी भी रहती थी। एक दिन मोर
ने मोरनी से प्रस्ताव रखा कि- “हम
तुम विवाह कर लें,
तो कैसा अच्छा रहे?”
मोरनी ने पूछा- “तुम्हारे मित्र
कितने है ?”
मोर ने कहा उसका कोई मित्र
नहीं है।
तो मोरनी ने विवाह से इनकार कर
दिया।
मोर सोचने लगा सुखपूर्वक रहने के
लिए मित्र बनाना भी आवश्यक है।
उसने एक सिंह से.., एक कछुए से.., और
सिंह के लिए शिकार का पता लगाने
वाली टिटहरी से.., दोस्ती कर लीं।
जब उसने यह समाचार
मोरनी को सुनाया, तो वह तुरंत
विवाह के लिए तैयार हो गई। पेड़ पर
घोंसला बनाया और उसमें अंडे दिए, और
भी कितने ही पक्षी उस पेड़ पर रहते
थे।
एक दिन शिकारी आए। दिन भर
कहीं शिकार न मिला तो वे उसी पेड़
की छाया में ठहर गए और सोचने लगे,
पेड़ पर चढ़कर अंडे- बच्चों से भूख बुझाई
जाए।
मोर दंपत्ति को भारी चिंता हुई,
मोर मित्रों के पास सहायता के लिए
दौड़ा। बस फिर क्या था..,
टिटहरी ने जोर- जोर से
चिल्लाना शुरू किया। सिंह समझ गया,
कोई शिकार है। वह उसी पेड़ के नीचे
चला.., जहाँ शिकारी बैठे थे। इतने में
कछुआ भी पानी से निकलकर बाहर आ
गया।
सिंह से डरकर भागते हुए
शिकारियों ने कछुए को ले चलने
की बात सोची। जैसे ही हाथ
बढ़ाया कछुआ पानी में खिसक गया।
शिकारियों के पैर दलदल में फँस गए।
इतने में सिंह आ पहुँचा और उन्हें ठिकाने
लगा दिया।
मोरनी ने कहा- “मैंने विवाह से पूर्व
मित्रों की संख्या पूछी थी, सो बात
काम की निकली न, यदि मित्र न
होते, तो आज हम सबकी खैर न थी।”
मित्रता सभी रिश्तों में
अनोखा और आदर्श रिश्ता होता है।
और मित्र
किसी भी व्यक्ति की अनमोल
पूँजी होते है।

अगर गिलास दुध से भरा हुआ है तो आप उसमे और दुध नहीं डाल
सकते । लेकिन आप उसमे शक्कर डाले । शक्कर अपनी जगह
बना लेती है और अपना होने का अहसास दिलाती है उसी प्रकार
अच्छे लोग हर किसी के दिल में अपनी जगह बना लेते हैं….
अपन��

एक बहुत बड़ा सरोवर था। Story

एक बहुत बड़ा सरोवर था। उसके तट पर मोर
रहता था, और वहीं पास एक
मोरनी भी रहती थी। एक दिन मोर
ने मोरनी से प्रस्ताव रखा कि- “हम
तुम विवाह कर लें,
तो कैसा अच्छा रहे?”
मोरनी ने पूछा- “तुम्हारे मित्र
कितने है ?”
मोर ने कहा उसका कोई मित्र
नहीं है।
तो मोरनी ने विवाह से इनकार कर
दिया।
मोर सोचने लगा सुखपूर्वक रहने के
लिए मित्र बनाना भी आवश्यक है।
उसने एक सिंह से.., एक कछुए से.., और
सिंह के लिए शिकार का पता लगाने
वाली टिटहरी से.., दोस्ती कर लीं।
जब उसने यह समाचार
मोरनी को सुनाया, तो वह तुरंत
विवाह के लिए तैयार हो गई। पेड़ पर
घोंसला बनाया और उसमें अंडे दिए, और
भी कितने ही पक्षी उस पेड़ पर रहते
थे।
एक दिन शिकारी आए। दिन भर
कहीं शिकार न मिला तो वे उसी पेड़
की छाया में ठहर गए और सोचने लगे,
पेड़ पर चढ़कर अंडे- बच्चों से भूख बुझाई
जाए।
मोर दंपत्ति को भारी चिंता हुई,
मोर मित्रों के पास सहायता के लिए
दौड़ा। बस फिर क्या था..,
टिटहरी ने जोर- जोर से
चिल्लाना शुरू किया। सिंह समझ गया,
कोई शिकार है। वह उसी पेड़ के नीचे
चला.., जहाँ शिकारी बैठे थे। इतने में
कछुआ भी पानी से निकलकर बाहर आ
गया।
सिंह से डरकर भागते हुए
शिकारियों ने कछुए को ले चलने
की बात सोची। जैसे ही हाथ
बढ़ाया कछुआ पानी में खिसक गया।
शिकारियों के पैर दलदल में फँस गए।
इतने में सिंह आ पहुँचा और उन्हें ठिकाने
लगा दिया।
मोरनी ने कहा- “मैंने विवाह से पूर्व
मित्रों की संख्या पूछी थी, सो बात
काम की निकली न, यदि मित्र न
होते, तो आज हम सबकी खैर न थी।”
मित्रता सभी रिश्तों में
अनोखा और आदर्श रिश्ता होता है।
और मित्र
किसी भी व्यक्ति की अनमोल
पूँजी होते है।

अगर गिलास दुध से भरा हुआ है तो आप उसमे और दुध नहीं डाल
सकते । लेकिन आप उसमे शक्कर डाले । शक्कर अपनी जगह
बना लेती है और अपना होने का अहसास दिलाती है उसी प्रकार
अच्छे लोग हर किसी के दिल में अपनी जगह बना लेते हैं….
अपने प्रिय दोस्तों को फोर्वोर्ड करो मैंने तो कर दिया..ध्यान से पड़ने के लिऎ धन्यवाद और बनाये अच्छे दोस्त

Vacation Special Kids Story दयालु नन्हीं लड़की

एक समय की बात है कि एक गांव में एक बहुत उदार तथा दयालु नन्हीं लड़की रहती थी। वह थी तो अनाथ, पर ऐसा लगता था जैसे सारा संसार उसी का है। वह सभी से प्रेम करती थी और दूसरे सब भी उसे बहुत चाहते थे।
पर दुख की बात यह थी कि उसके पास रहने के लिए कोई घर नहीं था। एक दिन इस बात से वह इतनी दुखी हुई कि उसने किसी को कुछ बताए बिना ही अपना गांव छोड़ दिया। वह जंगल की ओर चल दी। उसके हाथ में बस एक रोटी का टुकड़ा था।
वह कुछ ही दूर गई थी कि उसने एक बूढ़े आदमी को सड़क के किनारे बैठे देखा। वह बूढ़ा-बीमार-सा लगता था। उसका शरीर हड्डियों का ढांचा मात्र था। अपने लिए स्वयं रोटी कमाना उसके बस का काम नहीं था। इसलिए वह भीख मांग रहा था।
उसने आशा से लड़की की ओर देखा।
‘‘ओ प्यारी नन्हीं बिटिया ! मैं एक बूढ़ा आदमी हूं। मेरी देखभाल करने वाला कोई नहीं है। मेहनत-मजदूरी करने की मेरे शरीर में शक्ति नहीं, तीन दिन से मैंने कुछ नहीं खाया है। मुझ पर दया करो और मुझे कुछ खाने को दो।’’ वह बूढ़ा व्यक्ति गिड़गिड़ाया।

नन्हीं लड़की स्वयं भी भूखी थी। उसने रोटी की टुकड़ा इसलिए बचा रखा था ताकि खूब भूख लगने पर खाए। फिर भी उसे बूढ़े व्यक्ति पर दया आ गई। उसने अपना रोटी का टुकड़ा बूढ़े को खाने के लिए दे दिया।
वह बोली-‘‘बाबा, मेरे पास बस यह रोटी का टुकड़ा है। इसे ले लो, काश ! मेरे पास और कुछ होता।’’
इतना कहकर और रोटी का टुकड़ा देकर व आगे चल पड़ी। उसने मुड़कर भी नहीं देखा।
वह कुछ ही दूर और आगे गई थी कि उसे एक बालक नजर आया, जो ठंड के मारे कांप रहा था। उदार और दयालु तो वह थी ही, उस ठिठुरते बालक के पास जाकर बोली-‘‘भैया, तुम तो ठंड से मर जाओगे। मैं तुम्हारी कुछ सहायता कर सकती हूँ ?’’

बालक ने दयनीय नजरों से नन्हीं लड़की की ओर देखा-
‘‘हां दीदी ! यहां ठंड बहुत है। सिर छुपाने के लिए घर भी नहीं है मेरे पास। क्या करूं ? तुम्हारी बहुत कृपा होगी यदि तुम मुझे कुछ सिर ढंकने के लिए दे दो।’’ छोटा बालक कांपता हुआ बोला।
नन्हीं लड़की मुस्कुराई और उसने अपने टोपी (हैट) उतारकर बालक के सिर पर पहना दी। बालक को काफी राहत मिली।
‘‘भगवान करे, सबको तुम्हारे जैसी दीदी मिले। तुम बहुत उदार व कृपालु हो।’’ बालक ने आभार प्रकट करते हुए कहा, ‘‘ईश्वर तुम्हारा भला करे।’’
लड़की मुंह से कुछ बोली नहीं। केवल बालक की ओर प्यार से मीठी-सी मुस्कराहट के साथ देखकर आगे बढ़ गई।
वह सिर झुकाकर कुछ सोचती चलती रही।

आगे जंगल में नन्हीं लड़की को एक बालिका ठंड से कंपकंपाती हुई मिली, जैसे भाग्य उसकी परीक्षा लेने पर तुला था। उस छोटी-सी बालिका के शरीर पर केवल एक पतली-सी बनियान थी। बालिका की दयनीय दशा देखकर नन्हीं लड़की ने अपना स्कर्ट उतार कर उसे पहना दिया और ढांढस बंधाया-‘‘बहना, हिम्मत मत हारो। भगवान तुम्हारी रक्षा करेगा।’’
अब नन्हीं लड़की ने तन पर केवल स्वेटर रह गया था। वह स्वयं ठंड के मारे कांपने लगी। परंतु उसके मन में संतोष था कि उसने एक ही दिन में इतने सारे दुखियों की सहायता की थी। वह आगे चलती गई। उसके मन में कोई स्पष्ट लक्ष्य नहीं था कि उसे कहां जाना है।
अंधेरा घिरने लगा था। चांद बादलों के पीछे से लुका-छिपी का खेल खेल रहा था। साफ-साफ दिखाई देना भी अब बंद हो रहा था। परंतु नन्हीं लड़की ने अंधेरे की परवाह किए बिना ही अनजानी मंजिल की ओर चलना जारी रखा।
एकाएक सिसकियों की आवाज उसके कानों में पड़ी। ‘यह कौन हो सकता है ?’ वह स्वयं से बड़बड़ाई। उसने रुककर चारों ओर आंखें फाड़कर देखा।

‘‘ओह ! एक नन्हा बच्चा !’’ नन्हीं लड़की को एक बड़े पेड़ के पास एक छोटे से नंगे बच्चे की आकृति नजर आ गई थी। वह उस आकृति के निकट पहुंची और पूछा-‘‘नन्हें भैया, तुम क्यों रोते हो ? ओह हां, तुम्हारे तन पर तो कोई कपड़ा ही नहीं है। हे भगवान, इस बच्चे पर दया करो। यह कैसा अन्याय है कि एक इतना छोटा बच्चा इस सर्दी में नंगा ठंड से जम रहा है !’’ उसका गला रुंध गया था।
नन्हें बच्चे ने कांपते और सिसकते हुए कहा-‘‘द-दीदी, ब…बहुत कड़ाके की सर्दी है। मुझ पर दया करो। कुछ मदद करो।’’’‘‘हां-हां, नन्हे भैया। मैं अपना स्वेटर उतारकर तुम्हें दे रही हूं। बस यही कपड़ा है मेरे पास। लेकिन तुम्हें इसकी मुझसे अधिक जरूरत है।’’ ऐसा कहते हुए नन्हीं लड़की ने स्वेटर छोटे बच्चे को पहना दिया।
अब उसके पास तन पर कपड़े के नाम पर एक धागा भी नहीं रह गया था।
वह रुकी नहीं। चलती रही। इसी प्रकार चलते-चलते वह जंगल में एक खुली जगह जा पहुंची। वहां से आकाश दीख रहा था और दीख रहे थे बादलों से लुका-छिपी खेलता चांद तथा टिम-टिम करते तारे।
अब सर्दी बढ़ गई थी और ठंड असहनीय हो गई थी। नन्हीं लड़की का शरीर बुरी तरह कांपने लगा था और दांत किटकिटा रहे थे।

उसने सिर उठाकर आकाश की ओर देखा और एक आह भरी। फिर आंखों में छलकते आंसुओं के साथ वह नन्हीं लड़की बोली-‘‘हे प्रभु, मैं नहीं जानती कि कौन-सी शक्ति मुझे यहां खींच लाई है ! मैं यहाँ क्यों आई ! पर मुझे विश्वास हो रहा है कि यदि यहां से मैं तुमसे विनती करूं तो तुम अवश्य मेरी आवाज सुनोगे। मेरे सामने फैली झील, आकाश की ओर उठते ये सुन्दर-सुंदर पेड़ दूर नजर आती बर्फ से ढकी पर्वतों की चोटियां, आकाश का चांद तथा झिलमिलाते सितारे तुम्हें अर्पित मेरी प्रार्थना के साक्षी है।’’ ऐसा कहते हुए वह फफक कर रो पड़ी।
काफी समय बाद वह संयत हुई। उसने फिर प्रार्थना की-‘ईश्वर, क्या मैं जान सकती हूं कि तुमने मेरे माता-पिता क्यों छीन लिए जबकि मुझे उनकी छत्र-छाया की बहुत आवश्यकता थी ? मुझे अनाथ बनाकर तुम्हें क्या मिला ? इस सारे ब्रह्मांड के तुम स्वामी हो, पर मुझे रहने के लिए एक छोटा-सा घर भी नहीं मिला ? क्या यही तुम्हारा न्याय है ?
यही नहीं तुमने मेरे हाथ का वह रोटी का छोटा-सा टुकड़ा भी ले लिया। इस शीत भरी रात में तुम्हारे संसार में इतने सारे छोटे-छोटे बच्चे बेसहारा और बेघर बाहर जंगल में पड़े भूखे नंगे ठिठुर रहे हैं कि मुझे अपने भी एक-एक करके उतारकर उन्हें देने पड़े। परिणामस्वरूप मैं तुम्हारे सामने वस्त्रहीन खड़ी हूं।’
नन्हीं लड़की सांस लेने के लिए रुकी।

कुछ देर पश्चात उसने भर्राए गले से उलाहना दी-‘मैंने कभी तुमसे शिकायत नहीं की। न ही तुम्हें कोसा परंतु इसका अर्थ यह नहीं है कि मेरी कोई भावनाएं ही नहीं है या मेरा हृदय पत्थर है। खैर, मेरे माता-पिता की छोड़ो लेकिन…।’
नन्हीं लड़की न जाने कब तक क्या-क्या शिकायत करती रहती यदि ऊपर से एक आवाज ने उसे टोका न होता।
ऊपर से आकाशवाणी हुई-‘‘ओ प्यारी नन्हीं लड़की, मैं तुम्हारा दुख समझता हूं।’’ लड़की ने चौंककर आकाश की ओर निहारा।
आकाशवाणी जारी रही-‘‘…पर क्योंकि तुम मेरी विशेष संतान हो इसलिए मैंने तुम्हें धरती पर विशेष प्रयोजन से भेजा है। ऐसी संतान को कष्ट सहने पड़ते हैं और घोर परीक्षाओं से गुजरना पड़ता है। मुझे तुम पर गर्व है। तुमने सारी परीक्षाएं सफलतापूर्वक पार की हैं। अब तुम सुंदर वस्त्रों से सजी हो, जरा अपने बदन की ओर देखो।’’
नन्हीं लड़की ने अपने बदन को निहारा तो दंग रह गई। सचमुच वह अलौकिक रूप से मनमोहक वस्त्रों से ढकी थी।
अब चौंकाने की बारी भगवान की थी।
चमत्कार पर चमत्कार होने लगे। नन्हीं लड़की के सामने स्वादिष्ट व्यंजनों से सजे थाल प्रकट हुए। आकाश से घोषणा हुई-‘‘मेरी प्यारी बच्ची, मैं तुम्हारे माता-पिता को रात के भोजन पर तुम्हारे पास भेजूंगा। वे एक पूरी रात तुम्हारे साथ रहेंगे। और हां, मैं वचन देता हूं कि महीने में एक बार जब तुम इस स्थान पर आओगी, तो वे तुम्हारे साथ एक पूरी रात रहेंगे।’’

नन्हीं लड़की की प्रसन्नता का पारावार न रहा। जब उसने अगले ही क्षण अपने माता-पिता को अपने सामने खड़े पाया। उन्होंने अपनी बेटी को उठाकर बारी-बारी से छाती से लगा लिया और खूब चूमा तथा रोए। खुशी के आंसू तीनों की आंखों में झर रहे थे। मां ने अपने हाथों से नन्हीं लड़की को खाना खिलाना आरंभ किया। तीनों ने साथ-साथ भोजन किया। उस रात नन्हीं लड़की सोई नहीं। माता-पिता भी नहीं सोए। उन्हें भी अपनी बिटिया को बहुत कुछ बताना था।
बातों ही बातों में रात कटती रही।
पौ फटने से पहले एक और चमत्कार हुआ।
वे तीनों आकाश और चांद-सितारों को लेटे-लेटे निहारते हुए बातें कर रहे थे। अकस्मात् झिलमिलाते तारे टूट-टूट कर आकाश से नीचे गिरने लगे। हर तारा जो धरती पर आ गिरा एक सोने के टुकड़े में बदल गया।
मां ने मुस्कराकर बेटी की ओर देखा-
‘‘प्यारी-प्यारी बिटिया। पौ फटते ही हमें यहां से जाना होगा। जितने सोने के टुकड़े तुम बटोर सकती हो, बटोर लो। अपने गांव लौटकर अपने लिए एक प्यारा-सा घर बनाना और सुख से रहना। हां, एक बात और..।’’ उसने प्यार से अपनी बेटी को सहलाते हुए कहा-‘‘तुम्हारे नामकरण से पहले ही हमारी मृत्यु हो गई थी। प्रभु की कृपा से अब वह काम हम कर सकते हैं। अब से तुम्हारा नाम ‘मालती’ होगा। अलविदा प्यारी बिटिया। मालती अलविदा।’’ ऐसा कहते हुए नन्हीं लड़की के माता-पिता लुप्त होने लगे।

मालती ने जब तक उत्तर में अलविदा करने के लिए हाथ उठाया, तब तक वे दोनों लुप्त हो चुके थे। फिर भी नन्हीं मालती को यह आसरा तो था ही कि वह कम से कम महीने में एक बार तो अपने माता-पिता से मिल ही सकेगी। वह पूरी रात उनके साथ बिता सकेगी।
वह काफी देर आकाश की ओर ताकती रही।
फिर मालती अपने गांव लौट आई और एक छोटा सुंदर-सा घर बनवाकर उसमें सुख-चैन से रहने लगी।
अब वह दुनिया की और कुछ भी बात भूल जाए परंतु महीने में एक बार जंगल की खुली जगह पर जाकर अपने माता-पिता के साथ नियत समय पर रात बिताना नहीं भूलती।

Kids Story In Hindi

ye kahani ek nanhi si gudiya ki hai
jo har waqt apne sapno mai khoye rehti thi
jiski duniya sirf sapne the
wo din hota chahe raat bas sapno ke
sagar mai doobi rehti
uske liye sapne hi uske khilone the
aur saheliya bhi uske sapne
sahi mai soche to
sapne hi uski duniya ban chuke the shayad
use pariyo ki kahaniyo par bhi vishwas tha
aur use vishwas tha
ki ek din uske sapne pure karne ke liye bhi
koi pari jarur aayegi,,,,,,
aur ek din aisa aaya……
ek pari jo har kisi ke sapno ko jankar khush hoya karti thi
wo is nanhi si gudiya ke sapno ko
dekhkar hairaan reh gayi,,,,,
ek choti si nanhi si gudiya
aur aise sapne ……..
us pari ko vishwas na hua,,,,,
us pari ne kayi bacho ke sapno ko jana tha
jisme kayi khilone mangte the
koi naye kapde ,to koi mithaiya……..
par is nanhi si gudiya ke sapne
hairan pareshan kar gaye unhe,,,,,,
tab ek din wo us gudiya ke sapne mai aayi
aur bola gudiya rani kya chahti ho tum
kya mai tumhe khilone du ya kapde
ya kuch aur achi cheez,,,,,
tab wo gudiya boli nahi pari rani…
mujhe is duniye se bachalo….
Mai is duniye ke liye nahi bani,,,,,
Ye duniya bahut bekar hai,,,,
Yahan par log dusro ko dukh dekar khush hote hai
Yahan par kisi ki muskurahat kisi ki nafrat hoti hai
Yahan sab apne liye jeete hai
Par mai aisi nahi banna chahti,,,,
mujhe is duniye se darr lagta hai,
mai ek apni alag duniya banana chahti hoon
jahan mai har kisi ko khushiyan de pau
jahan mere wajah se kisi ke chere par udassi na aaye
tab pari rani ne kaha,,,,
ki itni choti si aankhon mai itne bade sapne..
tab gudiya rani ne kaha
ki mai har kisi se pyaar karna chahti hoon,..
har kisi ke dil mai pyaar basana chahti hoon
har kisi ki takleef apni baton se
khatam kar dena chahti hoon
tab pari rani ne kaha,,,,,
ki gudiya rani tune sach kaha
kit tu is duniye ke liye nahi bani,,,,,,
kyunki is duniya mai sab apne liye hi
khushiyan mangte hai
kisi ko paisa chahiye to kisi ko apna ghar
par aaj mai tere sapno se bahut khush hui hoon
mai tujhe teri alag duniya dungi
… pls vote and comments mee.

यही जिंदगी है।

ज़िंदगी के 20 वर्ष हवा की तरह उड़ जाते हैं.

फिर शुरू
होती है नौकरी की खोज . ये नहीं वो , दूर नहीं
पास . ऐसा करते 2-3 नौकरीयां छोड़ते पकड़ते , अंत में
एक तय होती है. और ज़िंदगी में थोड़ी स्थिरता की
शुरूआत होती है.

और हाथ में आता है पहली तनख्वाह का चेक , वह बैंक
में जमा होता है और शुरू होता है अकाउंट में जमा होने
वाले कुछ शून्यों का अंतहीन खेल.
इस तरह 2-3 वर्ष निकल जाते हैँ . ‘वो’ स्थिर होता है.

बैंक में कुछ और शून्य जमा हो जाते हैं. इतने में आयु
पच्चीस वर्ष हो जाते हैं.

विवाह की चर्चा शुरू हो जाती है. एक खुद की या
माता पिता की पसंद की लड़की से यथा समय
विवाह होता है और ज़िंदगी की राम कहानी शुरू हो
जाती है.

शादी के पहले 2-3 साल नर्म , गुलाबी , रसीले और
सपनीले गुज़रते हैं .

हाथों में हाथ डालकर बातें और रंग बिरंगे सपने . पर ये
दिन जल्दी ही उड़ जाते हैं. और इसी समय शायद बैंक में
कुछ शून्य कम होते हैं. क्योंकि थोड़ी मौजमस्ती,
घूमनाफिरना , खरीदी होती है.

और फिर धीरे से बच्चे के आने की आहट होती है और
वर्ष भर में पालना झूलने लगता है.
सारा ध्यान अब बच्चे पर केंद्रित हो जाता है. उसका
खाना पीना , उठना बैठना , शु शु पाॅटी , उसके
खिलौने, कपड़े और उसका लाड़ दुलार. समय कैसे
फटाफट निकल जाता है.

इन सब में कब इसका हाथ उसके हाथ से निकल गया,
बातें करना , घूमना फिरना कब बंद हो गया, दोनों
को ही पता नहीं चला ?

इसी तरह उसकी सुबह होती गयी और. बच्चा बड़ा
होता गया. .. वो बच्चे में व्यस्त होती गई और ये अपने
काम में. घर की किस्त , गाड़ी की किस्त और बच्चे
कि ज़िम्मेदारी . उसकी शिक्षा और भविष्य की
सुविधा. और साथ ही बैंक में शून्य बढ़ाने का टेंशन.

उसने पूरी तरह से अपने आप को काम में झोंक दिया.

बच्चे का स्कूल में एॅडमिशन हुआ और वह बड़ा होने लगा
. उसका पूरा समय बच्चे के साथ बीतने लगा.

इतने में वो पैंतीस का हो गया. खूद का घर , गाड़ी
और बैंक में कई सारे शून्य. फिर भी कुछ कमी है, पर वो
क्या है समझ में नहीं आता. इस तरह उसकी चिढ़ चिढ़
बढ़ती जाती है और ये भी उदासीन रहने लगा.

दिन पर दिन बीतते गए , बच्चा बड़ा होता गया और
उसका खुद का एक संसार तैयार हो गया. उसकी
दसवीं आई और चली गयी. तब तक दोनों ही चालीस
के हो गए. बैंक में शून्य बढ़ता ही जा रहा है.

एक नितांत एकांत क्षण में उसे गुज़रे दिन याद आते हैं
और वो मौका देखकर उससे कहता है ‘
अरे ज़रा यहां आओ ,
पास बैठो .
चलो फिर एक बार हाथों में हाथ ले कर बातें करें ,
कहीं घूम के आएं …. उसने अजीब नज़रों से उसको देखा
और कहा ” तुम्हें कभी भी कुछ भी सूझता है . मुझे ढेर
सा काम पड़ा है और तुम्हें बातों की सूझ रही है ” .

कमर में पल्लू खोंस कर वो निकल गई .
और फिर आता है पैंतालीसवां साल , आंखों पर चश्मा
लग गया .बाल अपना काला रंग छोड़ने लगे, दिमाग में
कुछ उलझनें शुरू ही थीं. . . . . बेटा अब काॅलेज में है.

बैंक
में शून्य बढ़ रहे हैं. उसने अपना नाम कीर्तन मंडली में
डाल दिया और . . . .
बेटे का college खत्म हो गया , अपने पैरों पर खड़ा हो
गया. अब उसके पर फूट गये और वो एक दिन परदेस उड़
गया…

अब उसके बालों का काला रंग और कभी कभी
दिमाग भी साथ छोड़ने लगा…. उसे भी चश्मा लग
गया था. अब वो उसे उम्र दराज़ लगने लगी क्योंकि
वो खुद भी बूढ़ा हो रहा था.

पचपन के बाद साठ की ओर बढ़ना शुरू था. बैंक में अब
कितने शून्य हो गए, उसे कुछ खबर नहीं है. बाहर आने
जाने के कार्यक्रम अपने आप बंद होने लगे ।

गोली -दवाइयों का दिन और समय निश्चित होने
लगा . डाॅक्टरों की तारीखें भी तय होने लगीं. बच्चे
बड़े होंगे ये सोचकर लिया गया घर भी अब बोझ लगने
लगा.

बच्चे कब वापस आएंगे , अब बस यही हाथ रह
गया था .

और फिर वो एक दिन आता है. वो सोफे पर लेटा ठंडी
हवा का आनंद ले रहा था .

वो शाम की दिया-
बाती कर रही थी . वो देख रही थी कि वो सोफे पर
लेटा है. इतने में फोन की घंटी बजी , उसने लपक के
फोन उठाया .

उस तरफ बेटा था.

बेटा अपनी शादी
की जानकारी देता है और बताता है कि अब वह
परदेस में ही रहेगा. उसने बेटे से बैंक के शून्य के बारे में
क्या करना यह पूछा.

अब चूंकि विदेश के शून्य की
तुलना में उसके शून्य बेटे के लिये शून्य हैं इसलिए उसने
पिता को सलाह दी ” एक काम करिये , इन पैसों का
ट्रस्ट बनाकर वृद्धाश्रम को दे दीजिए और खुद भी
वहीं रहीये”. कुछ औपचारिक बातें करके बेटे ने फोन रख
दिया.

वो पुनः सोफे पर आ कर बैठ गया. उसकी भी दिया
बाती खत्म होने आई थी. उसने उसे आवाज़ दी ” चलो
आज फिर हाथों में हाथ ले के बातें करें ”

वो तुरंत बोली ” बस अभी आई ” उसे विश्वास नहीं
हुआ , चेहरा खुशी से चमक उठा , आंखें भर आईं , उसकी
आंखों से गिरने लगे और गाल भीग गए .

अचानक आंखों की चमक फीकी हो गई और वो
निस्तेज हो गया.

उसने शेष पूजा की और उसके पास आ कर बैठ गई, कहा ”
बोलो क्या बोल रहे थे ” पर उसने कुछ नहीं कहा .

उसने
उसके शरीर को छू कर देखा . शरीर बिल्कुल ठंडा पड़
गया था और वो एकटक उसे देख रहा था .

क्षण भर को वो शून्य हो गई, क्या करूं उसे समझ में नहीं
आया . लेकिन एक-दो मिनट में ही वो चैतन्य हो गई,
धीरे से उठी और पूजाघर में गई . एक अगरबत्ती जलाई
और ईश्वर को प्रणाम किया और फिर से सोफे पे आकर
बैठ गई.

उसका ठंडा हाथ हाथों में लिया और बोली ” चलो
कहां घूमने जाना है और क्या बातें करनी हैं तम्हे ”
बोलो !! ऐसा कहते हुए उसकी आँखें भर आईं. वो एकटक
उसे देखती रही , आंखों से अश्रुधारा बह निकली .
उसका सिर उसके कंधों पर गिर गया. ठंडी हवा का
धीमा झोंका अभी भी चल रहा था …………….

यही जिंदगी है।

Intresting story

एक बार में अपने एक मित्र का तत्काल केटेगरी में पासपोर्ट बनवाने पासपोर्ट ऑफिस गया था।

लाइन में लग कर हमने पासपोर्ट का तत्काल फार्म लिया, फार्म भर लिया, काफी समय हो चुका था अब हमें पासपोर्ट की फीस जमा करनी थी।
लेकिन जैसे ही हमारा नंबर आया बाबू ने खिड़की बंद कर दी और कहा कि समय खत्म हो चुका है अब कल आइएगा।

मैंने उससे मिन्नतें की, उससे कहा कि आज पूरा दिन हमने खर्च किया है और बस अब केवल फीस जमा कराने की बात रह गई है, कृपया फीस ले लीजिए।

बाबू बिगड़ गया।
कहने लगा, “आपने पूरा दिन खर्च कर दिया तो उसके लिए वो जिम्मेदार है क्या?
अरे सरकार ज्यादा लोगों को बहाल करे।
मैं तो सुबह से अपना काम ही कर रहा हूं।”

खैर, मेरा मित्र बहुत मायूस हुआ और उसने कहा कि चलो अब कल आएंगे।
मैंने उसे रोका, कहा कि रुको एक और कोशिश करता हूं।

बाबू अपना थैला लेकर उठ चुका था। मैंने कुछ कहा नहीं, चुपचाप उसके-पीछे हो लिया। वो एक कैंटीन में गया, वहां उसने अपने थैले से लंच बॉक्स निकाला और धीरे-धीरे अकेला खाने लगा।

मैं उसके सामने की बेंच पर जाकर बैठ गया। मैंने कहा कि तुम्हारे पास तो बहुत काम है, रोज बहुत से नए-नए लोगों से मिलते होगे?
वो कहने लगा कि हां मैं तो एक से एक बड़े अधिकारियों से मिलता हूं।
कई आई.ए.एस., आई.पी.एस., विधायक रोज यहां आते हैं।
मेरी कुर्सी के सामने बड़े-बड़े लोग इंतजार करते हैं।

फिर मैंने उससे पूछा कि एक रोटी तुम्हारी प्लेट से मैं भी खा लूं?
उसने हाँ कहा।
मैंने एक रोटी उसकी प्लेट से उठा ली, और सब्जी के साथ खाने लगा।
मैंने उसके खाने की तारीफ की, और कहा कि तुम्हारी पत्नी बहुत ही स्वादिष्ट खाना पकाती है।

मैंने उसे कहा तुम बहुत महत्वपूर्ण सीट पर बैठे हो। बड़े-बड़े लोग तुम्हारे पास आते हैं।
तो क्या तुम अपनी कुर्सी की इज्जत करते हो? तुम बहुत भाग्यशाली हो, तुम्हें इतनी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी मिली है, लेकिन तुम अपने पद की इज्जत नहीं करते।

उसने मुझसे पूछा कि ऐसा कैसे कहा आपने?

मैंने कहा कि जो काम दिया गया है उसकी इज्जत करते तो तुम इस तरह रुखे व्यवहार वाले नहीं होते।

देखो तुम्हारा कोई दोस्त भी नहीं है। तुम दफ्तर की कैंटीन में अकेले खाना खाते हो, अपनी कुर्सी पर भी मायूस होकर बैठे रहते हो, लोगों का होता हुआ काम पूरा करने की जगह अटकाने की कोशिश करते हो।

बाहर गाँव से आ कर सुबह से परेशान हो रहे लोगों के अनुरोध करने पर कहते हो,
“सरकार से कहो कि ज्यादा लोगों को बहाल करे।”
अरे ज्यादा लोगों के बहाल होने से तो तुम्हारी अहमियत घट जाएगी? हो सकता है तुमसे ये काम ही ले लिया जाए।

भगवान ने तुम्हें मौका दिया है रिश्ते बनाने के लिए।
लेकिन अपना दुर्भाग्य देखो, तुम इसका लाभ उठाने की जगह रिश्ते बिगाड़ रहे हो।
मेरा क्या है, कल आ जाउंगा या परसों आ जाउंगा।

पर तुम्हारे पास तो मौका था किसी को अपना अहसानमंद बनाने का। तुम उससे चूक गए।

मैंने कहा कि पैसे तो बहुत कमा लोगे, लेकिन रिश्ते नहीं कमाए तो सब बेकार है।
क्या करोगे पैसों का? अपना व्यवहार ठीक नहीं रखोगे तो तुम्हारे घर वाले भी तुमसे दुखी रहेंगे, यार दोस्त तो पहले से ही नहीं हे।

मेरी बात सुन कर वो रुंआसा हो गया।
उसने कहा कि आपने बात सही कही है साहब। मैं अकेला हूं।
पत्नी झगड़ा कर मायके चली गई है।
बच्चे भी मुझे पसंद नहीं करते।
मां है, वो भी कुछ ज्यादा बात नहीं करती।
सुबह चार-पांच रोटी बना कर दे देती है, और मैं तन्हा खाना खाता हूं। रात में घर जाने का भी मन नहीं करता।
समझ में नहीं आता कि गड़बड़ी कहां है?

मैंने हौले से कहा कि खुद को लोगों से जोड़ो। किसी की मदद कर सकते तो तो करो।
देखो मैं यहां अपने दोस्त के पासपोर्ट के लिए आया हूं।
मेरे पास तो पासपोर्ट है। मैंने दोस्त की खातिर तुम्हारी मिन्नतें कीं। निस्वार्थ भाव से। इसलिए मेरे पास दोस्त हैं, तुम्हारे पास नहीं हैं।

वो उठा और उसने मुझसे कहा कि आप मेरी खिड़की पर पहुंचो। मैं आज ही फार्म जमा करुंगा, और उसने काम कर दिया।
फिर उसने मेरा फोन नंबर मांगा, मैंने दे दिया।

बरसों बीत गए…

इस दिवाली पर एक फोन आया…
रविंद्र कुमार चौधरी बोल रहा हूं साहब, कई साल पहले आप हमारे पास अपने किसी दोस्त के पासपोर्ट के लिए आए थे, और आपने मेरे साथ रोटी भी खाई थी।
आपने कहा था कि पैसे की जगह रिश्ते बनाओ।
मुझे एकदम याद आ गया।
मैंने कहा हां जी चौधरी साहब कैसे हैं?

उसने खुश होकर कहा, “साहब आप उस दिन चले गए, फिर मैं बहुत सोचता रहा।
मुझे लगा कि पैसे तो सचमुच बहुत लोग दे जाते हैं, लेकिन साथ खाना खाने वाला कोई नहीं मिलता।
मैं साहब अगले ही दिन पत्नी के मायके गया, बहुत मिन्नतें कर उसे घर लाया।
वो मान ही नहीं रही थी,
वो खाना खाने बैठी तो मैंने उसकी प्लेट से एक रोटी उठा ली, कहा कि साथ खिलाओगी?
वो हैरान थी। रोने लगी।
मेरे साथ चली आई।
बच्चे भी साथ चले आए।

साहब,
अब मैं पैसे नहीं कमाता।
रिश्ते कमाता हूं।
जो आता है उसका काम कर देता हूं।

साहब आज आपको हैप्पी दिवाली बोलने के लिए फोन किया है।

अगले महीने बिटिया की शादी है।
आपको आना है।
बिटिया को आशीर्वाद देने।
रिश्ता जोड़ा है आपने।

वो बोलता जा रहा था,
मैं सुनता जा रहा था। सोचा नहीं था कि सचमुच उसकी ज़िंदगी में भी पैसों पर रिश्ता इतना भारी पड़ेगा।

दोस्तों
आदमी भावनाओं से
संचालित होता है।
कारणों से नहीं।
कारण से तो मशीनें चला करती है ।

Kisi bhai ne bheji hai. Dil ko choo gayi isliye apko bhej raha hoon…….

लिखने वाले ने अपना कलेजा निकाल कर रख दिया है

Pls padhe jarur
➰➰➰➰➰➰➰ शायद लिखने वाले ने अपना कलेजा निकाल कर रख दिया है मैं एक दुकान में
खरीददारी कर रहा था,
तभी मैंने उस दुकान के कैशियर को एक 5-6
साल की लड़की से
बात करते हुए देखा |

कैशियर बोला :~
“माफ़ करना बेटी,
लेकिन इस गुड़िया को
खरीदने के लिए
तुम्हारे पास पर्याप्त पैसे नहीं हैं|”

फिर उस छोटी सी
लड़की ने मेरी ओर
मुड़ कर मुझसे पूछा:~

“अंकल,
क्या आपको भी यही लगता है
कि मेरे पास पूरे पैसे नहीं हैं?”

मैंने उसके पैसे गिने
और उससे कहा:~
“हाँ बेटे,
यह सच है कि तुम्हारे पास
इस गुड़िया को खरीदने के लिए पूरे पैसे
नहीं हैं”|

वह नन्ही सी लड़की
अभी भी अपने
हाथों में गुड़िया थामे हुए खड़ी थी |
मुझसे रहा नहीं गया |
इसके बाद मैंने उसके पास जाकर उससे
पूछा कि यह गुड़िया वह किसे
देना चाहती है?

इस पर उसने
उत्तर दिया कि यह
वो गुड़िया है,
जो उसकी बहन को
बहुत प्यारी है |
और वह इसे,
उसके जन्मदिन के लिए उपहार
में देना चाहती है |

बच्ची ने कहा यह गुड़िया पहले मुझे
मेरी मम्मी को देना है,
जो कि बाद में मम्मी
जाकर मेरी बहन को दे देंगी”|

यह कहते-कहते
उसकी आँखें नम हो आईं थी
मेरी बहन भगवान के घर गयी है…

और मेरे पापा कहते हैं
कि मेरी मम्मी भी जल्दी-ही भगवान से
मिलने जाने वाली हैं|
तो, मैंने सोचा कि
क्यों ना वो इस
गुड़िया को अपने साथ ले जाकर, मेरी बहन
को दे दें…|”

मेरा दिल धक्क-सा रह गया था |

उसने ये सारी बातें
एक साँस में ही कह डालीं
और फिर मेरी ओर देखकर बोली –
“मैंने पापा से कह दिया है कि मम्मी से
कहना कि वो अभी ना जाएँ|

वो मेरा,
दुकान से लौटने तक का
इंतजार
करें|

फिर उसने मुझे एक बहुत प्यारा-
सा फोटो दिखाया जिसमें वह
खिलखिला कर हँस
रही थी |

इसके बाद उसने मुझसे कहा:~
“मैं चाहती हूँ कि मेरी मम्मी,
मेरी यह
फोटो भी अपने साथ ले जायें,
ताकि मेरी बहन मुझे भूल नहीं पाए|
मैं अपनी मम्मी से बहुत प्यार करती हूँ और
मुझे नहीं लगता कि वो मुझे ऐसे छोड़ने के
लिए राजी होंगी,
पर पापा कहते हैं कि
मम्मी को मेरी छोटी
बहन के साथ रहने के
लिए जाना ही पड़ेगा क्योंकि वो बहुत छोटी है, मुझसे भी छोटी है | उसने धीमी आवाज मैं बोला।

इसके बाद फिर से उसने उस
गुड़िया को ग़मगीन आँखों-से खामोशी-से
देखा|

मेरे हाथ जल्दी से
अपने बटुए ( पर्स ) तक
पहुँचे और मैंने उससे कहा:~

“चलो एक बार
और गिनती करके देखते हैं
कि तुम्हारे पास गुड़िया के
लिए पर्याप्त पैसे हैं या नहीं?”

उसने कहा-:”ठीक है|
पर मुझे लगता है
शायद मेरे पास पूरे पैसे हैं”|

इसके बाद मैंने
उससे नजरें बचाकर
कुछ पैसे
उसमें जोड़ दिए और
फिर हमने उन्हें
गिनना शुरू किया |

ये पैसे उसकी
गुड़िया के लिए काफी थे
यही नहीं,
कुछ पैसे अतिरिक्त
बच भी गए
थेl |

नन्ही-सी लड़की ने कहा:~
“भगवान्
का लाख-लाख शुक्र है
मुझे इतने सारे पैसे
देने के लिए!

फिर उसने
मेरी ओर देख कर
कहा कि मैंने कल
रात सोने से पहले भगवान् से
प्रार्थना की थी कि मुझे इस
गुड़िया को खरीदने के
लिए पैसे दे देना,
ताकि मम्मी इसे
मेरी बहन को दे सकें |
और भगवान् ने मेरी बात सुन ली|

इसके अलावा
मुझे मम्मी के लिए
एक सफ़ेद गुलाब
खरीदने के लिए भी पैसे चाहिए थे, पर मैं भगवान से
इतने ज्यादा पैसे मांगने
की हिम्मत नहीं कर पायी थी
पर भगवान् ने तो
मुझे इतने पैसे दे दिए हैं
कि अब मैं गुड़िया के साथ-साथ एक सफ़ेद
गुलाब भी खरीद सकती हूँ !
मेरी मम्मी को सफेद गुलाब बहुत पसंद हैं|

“फिर हम वहा से निकल गए |
मैं अपने दिमाग से उस छोटी-
सी लड़की को
निकाल नहीं पा रहा था |

फिर,मुझे दो दिन पहले
स्थानीय समाचार
पत्र में छपी एक
घटना याद आ गयी
जिसमें
एक शराबी
ट्रक ड्राईवर के बारे में
लिखा था|

जिसने नशे की हालत में
मोबाईल फोन पर
बात करते हुए एक कार-चालक
महिला की कार को
टक्कर मार दी थी,
जिसमें उसकी 3 साल
की बेटी की
घटनास्थल पर ही
मृत्यु
हो गयी थी
और वह महिला कोमा में
चली गयी थी|
अब एक महत्वपूर्ण निर्णय उस परिवार
को ये लेना था कि,
उस महिला को जीवन
रक्षक मशीन पर बनाए रखना है
अथवा नहीं?
क्योंकि वह कोमा से बाहर
आकर,
स्वस्थ हो सकने की
अवस्था में
नहीं थी | दोनों पैर , एक हाथ,आधा चेहरा कट चुका था । आॅखें जा चुकी थी ।

“क्या वह परिवार इसी छोटी-
लड़की का ही था?”

मेरा मन रोम-रोम काँप उठा |
मेरी उस नन्ही लड़की
के साथ हुई मुलाक़ात के 2 दिनों बाद मैंने अखबार में
पढ़ा कि उस
महिला को बचाया नहीं जा सका,

मैं अपने आप को
रोक नहीं सका और अखबार
में दिए पते पर जा पहुँचा,
जहाँ उस महिला को
अंतिम दर्शन के लिए
रखा गया था
वह महिला श्वेत धवल
कपड़ों में थी-
अपने हाथ में
एक सफ़ेद गुलाब
और उस छोटी-सी लड़की का वही हॅसता हुआ
फोटो लिए हुए और उसके सीने पर रखी हुई
थी –
वही गुड़िया |
मेरी आँखे नम हो गयी । दुकान में मिली बच्ची और सामने मृत ये महिला से मेरा तो कोई वास्ता नही था लेकिन हूं तो इंसान ही ।ये सब देखने के बाद अपने आप को सभांलना एक बडी चुनौती थी
मैं नम आँखें लेकर वहाँ से लौटा|

उस नन्ही-सी लड़की का
अपनी माँ और
उसकी बहन के लिए
जो बेपनाह अगाध प्यार था,
वह शब्दों में
बयान करना मुश्किल है |

और ऐसे में,
एक शराबी चालक ने
अपनी घोर
लापरवाही से क्षण-भर में
उस लड़की से
उसका सब कुछ
छीन लिया था….!!!

ये दुख रोज कितने परिवारों की सच्चाइ बनता है मुझे पता नहीं!!!! शायद ये मार्मिक घटना
सिर्फ
एक पैग़ाम
देना चाहती है कि:::::::::::::

कृपया~~~

कभी भी शराब
पीकर और
मोबाइल पर बात
करते समय
वाहन ना चलायें
क्यूँकि आपका आनन्द
किसी के लिए
श्राप साबित हो सकता हैँ।
I riqst u
इस पोस्ट को
पढ़कर यदि आप
‘भावुक’ हुऐ
हों तो किसी भी एक व्यक्ति को शेयर’
जरूर करें

एक आदमी बड़ी आराम से अपनी गाड़ी में जा रहा था

एक बार एक आदमी बड़ी आराम से अपनी गाड़ी में
जा रहा था कि अचानक सामने से आ रही एक
महिला की गाड़ी आ कर उसकी गाड़ी से
टकरा गयी, पर एक्सिडेंट के बाद दोनों सुरक्षित
बच गए।
🚗🚘
जब दोनों गाड़ी से बाहर आये तो महिला ने पहले
अपनी गाड़ी को देखा जो पूरी तरह क्षतिग्रस्त
हो चुकी थी, फिर वो सामने की तरफ
गयी जहाँ आदमी भी अपनी गाड़ी को बड़ी गौर
से देख रहा था।
🚕🚗
तभी वह महिला उससे रूबरू होते हुए बोली,
“देखिये कैसा संयोग है कि गाड़ियाँ पूरी तरह से
टूट-फूट गयी पर हमें चोट तक नहीं आई। यह सब
भगवान की मर्जी से हुआ है ताकि हम दोनों मिल
सकें। मुझे लगता है कि अब हमें आपस में दोस्ती कर
लेनी चाहिए।
😘😘
आदमी ने भी सोचा कि इतना नुक्सान होने के
बाद भी गुस्सा करने के बजाय दोस्ती के लिए कह
रही है तो कर लेता हूँ और बोला, “आप बिल्कुल
ठीक कह रही हैं कि ये सब भगवान की मर्जी से
हुआ है।”
🌹🌹
तभी महिला ने कहा, “एक चमत्कार और देखिये
कि पूरी गाड़ी टूट-फूट गयी पर अंदर रखी शराब
की बोतल बिल्कुल सही है।”
🍺🍻
आदमी ने कहा, “वाकई यह तो हैरान करने
वाली बात है।” महिला ने बोतल खोली और
बोली, “आज हमारी जान बची है,
हमारी दोस्ती हुई है तो क्यों न
थोड़ी सी ख़ुशी मनाई जाए।”
🍺🍺
महिला ने बोतल को उस आदमी की तरफ
बढ़ाया उसने भी बोतल को पकड़ा और मुहं से
लगाया और आधी करके बोतल वापस
महिला को दे दी। फिर कहने लगा, “आप
भी लीजिये।”
😜😜
महिला ने बोतल को पकड़ा उसका ढक्कन बंद
किया और एक तरफ रख दी।

आदमी ने पूछा, “क्या आप शराब नहीं पियेंगी?”
महिला बड़े आराम से बोली, “नहीं …मुझे लगता है
मुझे पुलिस का इंतज़ार करना चाहिए ताकि मैं
बता सकूँ कि इस शराबी ने मेरी गाडी ठोक
दी है।”

मोरल: और करो लड़कियों पर भरोसा !!!😜🍺🌹😘🍻🚗😄🙏🚕🚘👍🌻🍁🌼😊

Inspiring story

*************
Inspiring story.. A Beautiful Message🌿

Arthur Ashe, The Legendary Wimbledon Player was dying of AIDS

which he got due to Infected Blood he received during a Heart Surgery in 1983!

He received letters from his fans, one of which conveyed:

“Why did God have to select you for such a bad disease??”

To this Arthur Ashe replied:

50 Million children started playing Tennis,

5 Million learnt to play Tennis,

500 000 learnt Professional Tennis,

50 Thousand came to Circuit,

5 Thousand reached Grandslam,

50 reached Wimbledon,

4 reached the Semifinals,

2 reached the Finals and

when I was holding the cup in my hand,

I never asked God
“Why Me?”

So now that I’m in pain how can I ask God “Why Me?”

Happiness keeps you Sweet!!

Trials keeps you Strong!!

Sorrows keeps you Human!!

Failure keeps you Humble!!

Success keeps you Glowing!!

But only,
Faith keeps you Going.

Sometimes you are
unsatisfied with your life,

while many people in
this world are dreaming
of living your life..

A child on a farm sees
a plane fly overhead &
dreams of flying.

But,
A pilot on the plane sees
the farmhouse & dreams
of returning home.

That’s life!!
Enjoy yours…

If wealth is the secret to
happiness,

then the rich should be dancing on the streets.

But only poor kids
do that.👍

If power ensures security,
then VIPs should walk
unguarded.

But those who live simply, sleep soundly.

If beauty and fame bring
ideal relationships,

then celebrities should have the best marriages.

Live simply.
Walk humbly.
and love genuinely..!

एक मर्मस्पर्शी कथा

❤💔”एक मर्मस्पर्शी कथा”💔❤

एक व्यक्ति ने बुलेट 350सीसी
मोटरसायकल खरीदी,
ताकि,
वो,
अपनी गर्लफ्रेंड को लॉन्गड्राइव पर घुमाने ले जा सके ..

लेकिन,

किस्मत देखिये..

बुलेट 350सीसी की तेज़ आवाज़ के कारण,
ड्राइविंग
करते समय वो अपनी गर्लफ्रेंड से बात नही कर पता था,

तंग आ कर,
आखिरकार उसने अपनी बुलेट 350सीसी,
जिसे उसने बड़े ही अरमानो से खरीदा था,
बमुश्किल एक महीने के भीतर,
घाटा उठाकर,
यानि नुकसान सहकर बेच दी,
बेच दी,

और

एक नई एक्टिवा खरीद ली,

अब वो बहुत खुश था..

उसकी लवलाइफ बहुत ही अच्छी चल रही थी,

लॉन्गड्राइव पर जाने में
उसे अब बहुत ही मज़ा आने लगा था,

क्योंकि, नई एक्टिवा,
उस बुलेट 350सीसी की तरह तेज़ आवाज़ नही करती थी,
और वो,
बड़े ही आराम से ड्राइविंग करते हुए अपनी प्यारी गर्लफ्रेंड से बातें कर पाता था,

दोनों के दिन बड़े ही अच्छे से कट रहे थे,

वक्त मनो पंख लगा कर उड़ता रहा..
देखते ही देखते दो वर्ष कब बीत गये,
दोनों को पता ही न चला,

बहुत प्यार था उन दोनों को
एक दूजे से,

दोनों ने साथ-साथ जीने मरने की कसमें खाईं,

आदमी अच्छाखासा कमाता था,
गर्लफ्रेंड में भी कोई कमी न थी,

अत:
घरवालों को राज़ी कर के दोनों ने शादी कर ली,

अब वक्त और तेज़ी से गुज़रा..

एक साल बाद..

उसी आदमी ने,

एक्टिवा बेच कर,
बुलेट 500सीसी खरीद ली..!

😜😛😂😉😄😭😂😢😰
💔❤💚💜💙💛💕💖💞

पहली कक्षा की टीचर मिस नीलम

पहली कक्षा की टीचर मिस नीलम (आयु 28 वर्ष) को अपने एक स्टुडेंट से कुछ परेशानी हो रही थी |

मिस नीलम ने बच्चे से पूछा “तुम्हे क्या प्रॉब्लम हे ”

बच्चे ने उत्तर दिया..में पहली कक्षा के हिसाब से अधिक स्मार्ट हूँ |मेरी बहिन
तीसरी कक्षा में हे जबकि मुझे लगता हे में उससे अधिक स्मार्ट हूँ |इसलिए मुझे भी तीसरी कक्षा में ही होना चाहिए |”

मिस नीलम बच्चे को लेकर प्रिंसिपल के पास जाती हे और सारी बात बताती हे |

प्रिंसिपल कहती हे की वह बच्चे से कुछ प्रश्न पूछेगी यदि बच्चे ने एक भी प्रश्न का गलत उत्तर दिया तो उसको पिछली कक्षा में जाना होगा और अनुशासित रहना होगा |

मिस नीलम तय्यार हो जाती हे |

बच्चे को सारी शर्ते बता दी जाती हे और बच्चा उत्तर देने को तय्यार हो जाता हे |

प्रिंसिपल- 3×3 कितना होता हे ?
बच्चा- 9
प्रिंसिपल- 6×6 कितना होता हे ?
बच्चा- 36

और इस प्रकार प्रिंसिपल बच्चे से वही प्रश्न करती हे जो उसके अनुसार एक
तीसरी कक्षा के बच्चे को आने चाहिए|

बच्चा प्रत्येक प्रश्न का सही उत्तर देता हे |

प्रिंसिपल उसको तीसरी कक्षा में भेजने का आदेश देती हे परन्तु मिस नीलम कहती हे मेरे भी कुछ खास प्रश्नों के उत्तर बच्चे को देने होंगे |

क्या में इससे कुछ प्रश्न पूछ सकती हूँ ?

प्रिंसिपल और बच्चा दोनों इसके लिए तय्यार हो जाते हे |

मिस नीलम- ऐसी कौन सी चीज़ हे जो गाय के पास चार होती हे और मेरे पास दो हे |

बच्चा- पैर |

मिस नीलम- तुम्हारी पेंट में ऐसा क्या हे जो मेरी पेंट में नही हे |

बच्चा- पॉकेट्स (जेब) |

मिस नीलम- वो क्या हे जिसका नाम C से शुरू होता हे और T पर खत्म,इस पर बाल होते हे ,और इसमें से सफेद रंग का स्वादिष्ट द्रव निकलता हे|

बच्चा- coconut (नारियल)

मिस नीलम- वो क्या हे जो अन्दर जाते समय सख्त और गुलाबी होता हे लेकिन बाहर आने पर मुलायम और चिपचिपा हो जाता हे |

प्रिंसिपल की आँखे आश्चर्य से फेलनी शुरू हो जाती हे |

बच्चा- बबलगम |

मिस नीलम- वो क्या हे जो मर्द खड़े होकर करते हे ,महिलाये बैठकर और कुत्ते अपनी तीन टांगो पर |

इससे पहले की बच्चा उत्तर दे प्रिंसिपल बच्चे को आश्चर्य से देखती हे |

बच्चा- shake hands (हाथ मिलाना ) |

मिस नीलम- अब में तुमसे “में कौन हूँ” टाइप के प्रश्न पूछूंगी |

बच्चा- ठीक हे |

मिस नीलम- तुम अपने पोल्स मुझ में घुसाते हो, तुम मुझे नीचे बांधते हो ताकि में सीधा खड़ा रह सकू,तुम्हारी बजाय बारिश में में पहले भीगता हूँ |

बच्चा- टेंट |

मिस नीलम- ऊँगली मुझमे जाती हे ,जब तुम बोर होते हो तो मुझसे छेड़छाड़ करते हो, बहतरीन व्यक्ति मुझे पहले प्राप्त करता हे |

अब प्रिंसिपल बिलकुल ही परेशान
हो जाती हे और बच्चे को उत्तर देने से
रोकना चाहती हे परन्तु बच्चा कहा रुकने वाला था |

बच्चा- wedding ring (शादी की अंगूठी) |

मिस नीलम- मेरे कई आकर (sizes) होते हे ,जब में ठीक नही होती तो में टपकने लगती हूँ, लेकिन उस समय जब तुम मुझे भीचते हो तो तुम्हे अच्छा लगता हे |

बच्चा- नाक (nose)

मिस नीलम- में सख्त (hard) हूँ, मेरा अगला किनारा (tip) अन्दर घुस जाता हे और अन्दर घुसने के बाद में कुछ देर के लिए हिलता हूँ |

बच्चा- तीर (arrow)

मिस नीलम- मेरा पहला अक्षर F हे और अंतिम K | मेरा सम्बन्ध अग्नि एवं उत्तेजना (fire and excitement) से हे |

बच्चा- firetruck (आग बुझाने
वाली गाडी) |

मिस नीलम- मेरा पहला अक्षर F हे और अंतिम K | यदि में नही हूँ तो तुम्हे अपने हाथ का प्रयोग करना पड़ेगा |

बच्चा- fork (खाना खाने का काँटा) |

मिस नीलम- वो क्या हे जो किसी मर्द
का बड़ा होता हे ,किसी का छोटा | अपनी इस चीज़ का pope प्रयोग नही करता और प्रत्येक मर्द शादी होने के बाद इसे अपनी पत्नी को देता हे |

बच्चा- surname (उपनाम) |

मिस नीलम- मर्द के कौन से भाग में
हड्डी नही होती लेकिन मांसपेशियां होती हे ,इसमें पम्पिंग होती हे
और यह प्यार करने के लिए बहुत ही अधिक ज़िम्मेदार हे |

बच्चा- हृदय |

प्रिंसिपल एक लम्बी चेन की सांस
लेती हे और मिस नीलम से कहती हे “इस बच्चे को दिल्ली यूनिवर्सिटी भेज
दो ,क्यूंकि अंतिम दस प्रश्नों में तो मेरा उत्तर (अनुमान) भी ग़लत था …शुभ रात्रि 😜😝😛😄

वाहेगुरू जी का खालसा वाहेगुरू जी की फतेह

धरती की सबसे मेहंगी जगह सिरहिंद
फतेहगढ़ साहब में है, यहां पर श्री गुरु
गोबिंद सिंह जी के छोटे
साहिबजादों का अंतिम संस्कार
किया गया था, सेठ दीवान टोंडर मल ने
यह जगह 78000 सोने की मोहरे (सिक्के)
जमीन पर फेला कर मुस्लिम बादशाह से
जमीन खरीदी थी। सोने की कीमत
मुताबिक इस 4 स्केयर मीटर जमीन
की कीमत 2500000000 (दो अरब पचास
करोड़) बनती है। दुनिया की सबसे
मेहंगी जगह खरीदने का रिकॉर्ड आज
सिख धर्म के इतिहास में दर्ज
करवाया गया है। आजतक दुनिया के
इतिहास में इतनी मेहंगी जगह
कही नही खरीदी गयी।
कूल ड्यूड ने “300” फिल्म तो देखी ही होगी,
लेकिन कभी अपने भारतीय इतिहास के ऐसे ही युद्ध के
बारे मे पढ़ा है??
दुनिया के इतहास में ऐसा युद्ध ना कभी किसी ने
पढ़ा होगा ना ही सोचा होगा, जिसमे 10 लाख
की फ़ौज
का सामना महज 42 लोगों के साथ हुआ था और जीत
किसकी होती है उन 42 सूरमो की !
यह युद्ध ‘चमकौर युद्ध’ (Battle of Chamkaur) के नाम
से
भी जाना जाता है जो की मुग़ल योद्धा वज़ीर खान
की अगवाई में 10 लाख की फ़ौज का सामना सिर्फ
42
सिखों के सामने 6 दिसम्बर 1704 को हुआ जो की गुरु
गोबिंद सिंह जी की अगवाई में
तैयार हुए थे !
नतीजा यह निकलता है की उन 42 शूरवीर की जीत
होती है
जो की मुग़ल हुकूमत की नीव जो की बाबर ने
रखी थी , उसे जड़ से
उखाड़ दिया और भारत को आज़ाद भारत
का दर्ज़ा दिया !
औरंगज़ेब ने भी उस वक़्त गुरु गोबिंद सिंह जी के आगे
घुटने टेके और
मुग़ल राज का अंत हुआ हिन्दुस्तान से !
तभी औरंगजेब ने एक प्रश्न किया गुरु गोबिंद सिंह
जी के सामने,
की यह कैसी फ़ौज तैयार की आपने जिसने 10 लाख
की फ़ौज
को उखाड़ फेका !
गुरु गोबिंद सिंह जी ने जवाब दिया
चिड़ियों से मैं बाज
लडाऊ , गीदड़ों को मैं शेर बनाऊ !
सवा लाख से एक लडाऊ तभी गोबिंद सिंह नाम
कहउँ !!
गुरु गोबिंद सिंह जी ने जो कहा वो किया, जिन्हे
आज हर कोई
शीश झुकता है , यह है हमारे भारत की अनमोल
विरासत जिसे हमने
कभी पढ़ा ही नहीं !
अगर आपको यकीन नहीं होता तो एक बार जरूर गूगल
में लिखे ‘बैटल
ऑफ़ चमकौर’ और सच आपको पता लगेगा ,
आपको अगर
थोड़ा सा भी अच्छा लगा और आपको भारतीय
होने का गर्व है
तो जरूर इसे आगे शेयर करे जिससे की हमारे भारत के
गौरवशाली इतहास के बारे में दुनिया को पता लगे !

और शहीद सिक्खों को शीश झुकाये
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

वाहेगुरू जी का खालसा
वाहेगुरू जी की फतेह

एक सच्ची घटना है

एक सच्ची घटना है

जो अभी हाल ही में

सूरत गुजरात में हूई ,,,,;;

सूरत के एक बहुत बड़े diamond बिज़नेस मैन का

संदेश,,,,,!!!

भाई की एकलौती संतान का एक्सीडेंट हुवा

और

वो हॉस्पिटल पहुचते समय रस्ते में

ही उसने अपनी आखरी

सांस ली

और

इस दुनिया को अलविदा कह दिया

लकिन मरते मरते उसने अपने पिता को एक मसेजे

दिया था

उसके पिता तो जैसे पागल से हो गए

अपने बेटे की मौत का समाचार सुनके

उन्हें हर जगह अपना बेटा ही दिखाई देता था

उसके सन की आखिरी इच्छा थी

की

उसके मनपसंद स्थान सापुतारा में

उसको दफनाया जाये

सबके

मना करने के बावजूद भी उन्होंने

अपने बेटे को सापुतारा मे दफनाया

उसी रात महेश भाई ने अपने मरे बेटे को होटल के कंपाउंड में घूमता देखा

फिर उन्हें एहसास हुवा की ये उनकी एक

कल्पना मात्र थी

अगले दिन

सापुतारा से लौटते समय भी उन्हें लगा

की उनका बेटा उन्हें रोकने के लिए

पीछे दौड़ रहा है

आखिर जब वो वापस सूरत आये तब

४-५ दिन के बाद उन्हें एक कॉल आया

जिसकी वजह से उनके पैरो के नीचे से

जमीन खिसक गयी

वह उनके लड़के का कॉल था

और उसे घर आना था फिर दुसरे दिन

भी कॉल आया

अब

सब चिंता में थे

और

सापुतारा पहुचे तो देखा की उनका

लड़का वही खड़ा था आखिर में पता चला की

कबर

बनाते समय कुछ सीमेंट उसके मुह में चली

गयी थी

और

वो जिन्दा हो गया क्योकि वो

अम्बुजा सीमेंट थी

और

इस सीमेंट में

जान है

plz अपना मोबाइल मत फेक देना

क्योकि हर एक फ्रेंड कमीना होता है

plz फॉरवर्ड this मैसेजे क्योकि

मैंने

भी ध्यान से पढ़ा और गुस्सा आया !!!

अब आप भी आगे भेजकर अपना गुस्सा ठंडा करे

दिल पे मत लेना यार ।!!!

गुरूजी विद्यालय से with sunny leone story

गुरूजी विद्यालय से घर लौट रहे थे । रास्ते में
एक नदी पड़ती थी ।
नदी पार करने लगे
तो ना जाने क्या सूझा , एक पत्थर पर बैठ अपने
झोले में से पेन और कागज निकाल अपने वेतन
का हिसाब निकालने लगे ।
अचानक….., हाथ से पेन फिसला और
डुबुक ….पानी में डूब गया ।
गुरूजी परेशान ।
आज ही सुबह पूरे पांच रूपये खर्च कर
खरीदा था । कातर दृष्टि से कभी इधर
कभी उधर देखते , पानी में उतरने
का प्रयास
करते , फिर डर कर कदम खींच लेते । एकदम
नया पेन
था , छोड़ कर जाना भी मुनासिब न था ।
अचानक…….
पानी में एक तेज लहर उठी , और
साक्षात् वरुण
देव सामने थे । गुरूजी हक्के -बक्के ।
कुल्हाड़ी वाली कहानी याद
आ गई । वरुण देव
ने कहा , ” गुरूजी । क्यूँ इतने परेशान हैं ।
प्रमोशन , तबादला ,
वेतनवृद्धि ,क्या चाहिए ?
गुरूजी अचकचाकर बोले , ” प्रभु ! आज
ही सुबह
एक पेन खरीदा था । पूरे पांच रूपये का ।
देखो ढक्कन भी मेरे हाथ में है । यहाँ पत्थर पर
बैठा लिख रहा था कि पानी में गिर गया ।
प्रभु बोले , ” बस इतनी सी बात !
अभी निकाल लाता हूँ ।”
प्रभु ने डुबकी लगाई , और चाँदी का एक
चमचमाता पेन लेकर बाहर आ गए । बोले – ये है
आपका पेन ?
गुरूजी बोले – ना प्रभु । मुझ गरीब
को कहाँ ये
चांदी का पेन नसीब । ये
मेरानाहीं ।
प्रभु बोले – कोई नहीं , एक
डुबकी और
लगाता हूँ ।
डुबुक ….. इस बार प्रभु सोने का रत्न जडित पेन
लेकर आये ।बोले – “लीजिये गुरूजी ,
अपना पेन
।”
गुरूजी बोले – ” क्यूँ मजाक करते हो प्रभु ।
इतना कीमती पेन और
वो भी मेरा । मैं टीचर हूँ
सर , CRC नहीं ।
थके हारे प्रभु ने कहा , ” चिंता ना करो गुरुदेव ।
अबके फाइनल डुबकी होगी ।
डुबुक …. बड़ी देर बाद प्रभु उपर आये । हाथ में
गुरूजी का जेल पेन लेकर । बोले – ये है क्या ?
गुरूजी चिल्लाए – हाँ यही है ,
यही है ।
प्रभु ने कहा – आपकी इमानदारी ने
मेरा दिल
जीत लिया गुरूजी । आप सच्चे गुरु हैं ।
आप ये
तीनों पेन ले लो ।
गुरूजी ख़ुशी – ख़ुशी घर
को चले ।
कहानी अभी बाकी है
दोस्तों —
गुरूजी ने घर आते
ही सारी कहानी पत्नी जी को सुनाई

चमचमाते हुवे कीमती पेन
भी दिखाए ।
पत्नी को विश्वास ना हुवा , बोली तुम
किसी CRC का चुरा कर लाये हो ।
बहुत समझाने पर भी जब
पत्नी जी ना मानी तो गुरूजी उसे
घटना स्थल की ओर ले चले ।
दोनों उ पत्थर पर बैठे , गुरूजी ने बताना शुरू
किया कि कैसे – कैसे सब हुवा ।
पत्नी जी एक
एक कड़ी को किसी शातिर पुलिसिये
की तरह जोड़
रही थी कि अचानक …….
डुबुक !!! पत्नी जी का पैर फिसला , और
वो गहरे पानी में समा गई ।
गुरूजी की आँखों के आगे तारे नाचने लगे
। ये
क्या हुवा ! जोर -जोर से रोने लगे ।
तभी अचानक ……
पानी में ऊँची ऊँची लहरें
उठने लगी ।
नदी का सीना चीरकर
साक्षात वरुण देव
प्रकट हुवे । बोले – क्या हुआ गुरूजी ? अब क्यूँ
रो रहे हो ?
गुरूजी ने रोते हुए पूरी story प्रभु
को सुनाई ।
प्रभु बोले – रोओ मत ।धीरज रखो । मैं
अभी आपकी पत्नी को निकाल
कर लाता हूँ।
प्रभु ने डुबकी लगाईं , और …..
..
……..
…………
……………..थोड़ी देर में
वो सनी लियोनी को लेकर प्रकट हुवे ।
बोले –
गुरूजी ।
क्या यही आपकी पत्नी जी है ??
गुरूजी ने एक क्षण सोचा , और चिल्लाए –
हाँ यही है , यही है ।
अब चिल्लाने की बारी प्रभु
की थी । बोले –
दुष्ट मास्टर । टंच माल देखा तो नीयत बदल
दी । ठहर तुझे श्राप देता हूँ ।
गुरूजी बोले – माफ़ करें प्रभु । मेरी कोई
गलती नहीं । अगर मैं इसे
मना करता तो आप
अगली डुबकी में प्रियंका चोपड़ा को लातते

मैं फिर भी मना करता तो आप
मेरो पत्नी को लाते । फिर आप खुश होकर
तीनों मुझे दे देते ।
अब आप ही बताओ भगवन , इस महंगाई के
जमाने
में मैं तीन – तीन
बीबीयाँ कैसे पालता ।
सो सोचा , सनी से ही काम चला लूँगा ।
और
इस ठंड में आप भी डुबकियां लगा लगा कर थक
गये होंगे । जाइये विश्राम करिए । bye bye
छपाक … एक आवाज आई । प्रभु बेहोश होकर
पानी में गिर गए थे ।
गुरूजी सनी का हाथ थामे
सावधानीपूर्वक
धीरे – धीरे नदी पार कर
रहे थे ।
जय हो👏👏👏👏👏👏

,😜😜😜
Dekha kitne seedhe hote he teachers😁😁

एक औरत अपने परिवार के सदस्यों

एक औरत अपने परिवार के सदस्यों के लिए रोज़ाना भोजन पकाती थी और एक रोटी वह वहाँ से गुजरने वाले किसी भी भूखे के लिए पकाती थी..।

वह उस रोटी को खिड़की के सहारे रख दिया करती थी, जिसे कोई भी ले सकता था..।

एक कुबड़ा व्यक्ति रोज़ उस रोटी को ले जाता और बजाय धन्यवाद देने के अपने रस्ते पर चलता हुआ वह कुछ इस तरह बड़बड़ाता- “जो तुम बुरा करोगे वह तुम्हारे साथ रहेगा और जो तुम अच्छा करोगे वह तुम तक लौट के आएगा..।”

दिन गुजरते गए और ये सिलसिला चलता रहा..

वो कुबड़ा रोज रोटी लेके जाता रहा और इन्ही शब्दों को बड़बड़ाता- “जो तुम बुरा करोगे वह तुम्हारे साथ रहेगा और जो तुम अच्छा करोगे वह तुम तक लौट के आएगा.।”

वह औरत उसकी इस हरकत से तंग आ गयी और मन ही मन खुद से कहने लगी की- “कितना अजीब व्यक्ति है, एक शब्द धन्यवाद का तो देता नहीं है, और न जाने क्या-क्या बड़बड़ाता रहता है, मतलब क्या है इसका.।”

एक दिन क्रोधित होकर उसने एक निर्णय लिया और बोली- “मैं इस कुबड़े से निजात पाकर रहूंगी.।”

और उसने क्या किया कि उसने उस रोटी में ज़हर मिला दिया जो वो रोज़ उसके लिए बनाती थी, और जैसे ही उसने रोटी को को खिड़की पर रखने कि कोशिश की, कि अचानक उसके हाथ कांपने लगे और रुक गये और वह बोली- “हे भगवन, मैं ये क्या करने जा रही थी.?” और उसने तुरंत उस रोटी को चूल्हे कि आँच में जला दिया..। एक ताज़ा रोटी बनायीं और खिड़की के सहारे रख दी..।

हर रोज़ कि तरह वह कुबड़ा आया और रोटी ले के: “जो तुम बुरा करोगे वह तुम्हारे साथ रहेगा, और जो तुम अच्छा करोगे वह तुम तक लौट के आएगा” बड़बड़ाता हुआ चला गया..।

इस बात से बिलकुल बेख़बर कि उस महिला के दिमाग में क्या चल रहा है..।

हर रोज़ जब वह महिला खिड़की पर रोटी रखती थी तो वह भगवान से अपने पुत्र कि सलामती और अच्छी सेहत और घर वापसी के लिए प्रार्थना करती थी, जो कि अपने सुन्दर भविष्य के निर्माण के लिए कहीं बाहर गया हुआ था..। महीनों से उसकी कोई ख़बर नहीं थी..।

ठीक उसी शाम को उसके दरवाज़े पर एक दस्तक होती है.. वह दरवाजा खोलती है और भोंचक्की रह जाती है.. अपने बेटे को अपने सामने खड़ा देखती है..।

वह पतला और दुबला हो गया था.. उसके कपडे फटे हुए थे और वह भूखा भी था, भूख से वह कमज़ोर हो गया था..।

जैसे ही उसने अपनी माँ को देखा, उसने कहा- “माँ, यह एक चमत्कार है कि मैं यहाँ हूँ.. आज जब मैं घर से एक मील दूर था, मैं इतना भूखा था कि मैं गिर गया.. मैं मर गया होता..।

लेकिन तभी एक कुबड़ा वहां से गुज़र रहा था.. उसकी नज़र मुझ पर पड़ी और उसने मुझे अपनी गोद में उठा लिया.. भूख के मरे मेरे प्राण निकल रहे थे.. मैंने उससे खाने को कुछ माँगा.. उसने नि:संकोच अपनी रोटी मुझे यह कह कर दे दी कि- “मैं हर रोज़ यही खाता हूँ, लेकिन आज मुझसे ज़्यादा जरुरत इसकी तुम्हें है.. सो ये लो और अपनी भूख को तृप्त करो.।”

जैसे ही माँ ने उसकी बात सुनी, माँ का चेहरा पीला पड़ गया और अपने आप को सँभालने के लिए उसने दरवाज़े का सहारा लीया..।

उसके मस्तिष्क में वह बात घुमने लगी कि कैसे उसने सुबह रोटी में जहर मिलाया था, अगर उसने वह रोटी आग में जला के नष्ट नहीं की होती तो उसका बेटा उस रोटी को खा लेता और अंजाम होता उसकी मौत..?

और इसके बाद उसे उन शब्दों का मतलब बिलकुल स्पष्ट हो चूका था- “जो तुम बुरा करोगे वह तुम्हारे साथ रहेगा, और जो तुम अच्छा करोगे वह तुम तक लौट के आएगा.।।

🍁” निष्कर्ष “🍁
==========
हमेशा अच्छा करो और अच्छा करने से अपने आप को कभी मत रोको, फिर चाहे उसके लिए उस समय आपकी सराहना या प्रशंसा हो या ना हो..।
==========

अगर आपको ये कहानी पसंद आई हो तो इसे दूसरों के साथ ज़रूर शेयर करें..

मैं आपसे दावे के साथ कह सकता हूँ कि ये बहुत से लोगों के जीवन को छुएगी व बदलेगी.।

लडकी ने लडके से चंद पंक्तीयाँ कही

ram kaushik
👉एक लडकी ने एक लडके का प्यार कबुल नही किया तो लडके ने
लडकी के मुँह पर तेजाब फेक दिया तो लडकी ने लडके से चंद
पंक्तीयाँ कही आप एक बार इन पंक्तीयो को जरुर पढना👏
NEXT

👉चलो, फेंक दिया
सो फेंक दिया….@
अब कसूर भी बता दो मेरा
तुम्हारा इजहार था
मेरा इन्कार था
बस इतनी सी बात पर
फूंक दिया तुमने
चेहरा मेरा….@
गलती शायद मेरी थी
प्यार तुम्हारा देख न सकी
इतना पाक प्यार था
कि उसको मैं समझ ना सकी….@
अब अपनी गलती मानती हूँ
क्या अब तुम … अपनाओगे मुझको?
क्या अब अपना … बनाओगे मुझको?@
क्या अब … सहलाओगे मेरे चहरे को?
जिन पर अब फफोले हैं…@
मेरी आंखों में आंखें डालकर देखोगे?
जो अब अन्दर धस चुकी हैं
जिनकी पलकें सारी जल चुकी हैं
चलाओगे अपनी उंगलियाँ मेरे गालों पर?
जिन पर पड़े छालों से अब पानी निकलता है
हाँ, शायद तुम कर लोगे….@
तुम्हारा प्यार तो सच्चा है ना?
अच्छा! एक बात तो बताओ
ये ख्याल ‘तेजाब’ का कहाँ से आया?
क्या किसी ने तुम्हें बताया?
या जेहन में तुम्हारे खुद ही आया?
अब कैसा महसूस करते हो तुम मुझे जलाकर?
गौरान्वित..???@
या पहले से ज्यादा
और भी मर्दाना…???@

तुम्हें पता है
सिर्फ मेरा चेहरा जला है
जिस्म अभी पूरा बाकी है
एक सलाह दूँ!…@

एक तेजाब का तालाब बनवाओ
फिर इसमें मुझसे छलाँग लगवाओ
जब पूरी जल जाऊँगी मैं
फिर शायद तुम्हारा प्यार मुझमें
और गहरा और सच्चा होगा….@

एक दुआ है….@
अगले जन्म में
मैं तुम्हारी बेटी बनूँ
और मुझे तुम जैसा
आशिक फिर मिले
शायद तुम फिर समझ पाओगे
तुम्हारी इस हरकत से
मुझे और मेरे परिवार को
कितना दर्द सहना पड़ा है।…@
तुमने मेरा पूरा जीवन
बर्बाद कर दिया है

सपना

कल रात मैंने एक “सपना” देखा.!!
सपने में मैं और मेरी Family
शिमला घूमने गए.!!
हम सब शिमला की रंगीन
वादियों में कुदरती नजारा
देख रहे थे.!!
जैसे ही हमारी Car
Sunset Point की ओर
निकली….. अचानक गाडी के Breakफेल हो गए और हम सब
करीबन 1500 फिट गहरी
खाई में जा गिरे.!!

मेरी तो on the spot Death हो गई.!!

जीवन में कुछ अच्छे कर्म किये होंगे इसलिये यमराज मुझे स्वर्ग में ले गये.!!

देवराज इंद्र ने मुस्कुराकर
मेरा स्वागत किया.!! मेरे हाथ में Bag देखकर पूछने लगे

इसमें क्या है.?

मैंने कहा इसमें मेरे जीवन भर
की कमाई है, पांच करोड़ रूपये हैं । इन्द्र ने SVG 6767934 नम्बर के Locker की ओर इशारा करते हुए कहा-
आपकी अमानत इसमें रख
दीजिये.!!

मैंने Bag रख दी.!!

मुझे एक Room भी दिया.!!
मैं Fresh होकर Market में
निकला.!! देवलोक के Shopping मॉल
मे अदभूत वस्तुएं देखकर मेरा मन ललचा गया.!!

मैंने कुछ चीजें पसन्द करके
Basket में डाली, और काउंटर
पर जाकर उन्हें हजार हजार के
करारे नोटें देने लगा.!!

Manager ने नोटों को देखकर
कहा यह करेंसी यहाँ नहीं चलती.!!

यह सुनकर मैं हैरान रह गया.!!
मैंने इंद्र dev के पास Complaint की इंद्र devने मुस्कुराते हुए कहा कि
आप व्यापारी होकर इतना भी
नहीं जानते? कि आपकी करेंसी
बाजु के मुल्क पाकिस्तान, श्रीलंका और बांगलादेश में भी नही चलती.?
और आप मृत्यूलोक की करेंसी
स्वर्गलोक में चलाने की मूर्खता
कर रहे हो.!! यह सब सुनकर मुझे मानो साँप सूंघ गया.!!

मैं जोर जोर से दहाड़े मारकर
रोने लगा.!! और परमात्मा से
दरखास्त करने लगा, हे भगवान् ये क्या हो गया.? मैंने कितनी मेहनत से ये पैसा कमाया.?
दिन नही देखा, रात नही देखा, पैसा कमाया.!! माँ बाप की सेवा नही की, पैसा कमाया
बच्चों की परवरीश नही की,
पैसा कमाया.!! पत्नी की सेहत की ओर ध्यान नही दिया, पैसा कमाया.!!

रिश्तेदार, भाईबन्द, परिवार और
यार दोस्तों से भी किसी तरह की
हमदर्दी न रखते हुए पैसा
कमाया.!!
जीवन भर हाय पैसा
हाय पैसा किया.!!
ना चैन से सोया, ना चैन से खाया…. बस, जिंदगी भर पैसा कमाया.!
और यह सब व्यर्थ गया….

हाय राम, अब क्या होगा….

इंद्र dev ने कहा,-
रोने से कुछ हासिल होने वाला
नहीं है.!! जिन जिन लोगो ने यहाँ जितना भी पैसा लाया, सब रद्दी हो गया।

जमशेद जी टाटा के 55 हजार करोड़ रूपये, बिरला जी के 47 हजार करोड़ रूपये, धीरू भाई
अम्बानी के 29 हजार करोड़
अमेरिकन डॉलर…. सबका पैसा यहां पड़ा है.!!

मैंने इंद्र dev से पूछा-
फिर यहां पर कौनसी करेंसी
चलती है.??
इंद्र dev ने कहा-
धरती पर अगर कुछ अच्छे कर्म
किये है. जैसे किसी दुखियारे को
मदद की, किसी रोते हुए को
हसाया, किसी गरीब बच्ची की
शादी कर दी, किसी अनाथ बच्चे को पढ़ा लिखा कर काबिल बनाया.!! किसी को व्यसनमुक्त किया.!! किसी अपंग स्कुल, वृद्धाश्रम या मंदिरों में दान धर्म किया….

ऐसे पूण्य कर्म करने वालों को
यहाँ पर एक Credit Card
मिलता है….
और उसे वापS कर आप यहाँ
स्वर्गीय सुख का उपभोग ले
सकते है.!!

मैंने कहा भगवन, मुझे यह पता
नहीं था. इसलिए मैंने अपना जीवन व्यर्थ गँवा दिया.!!

हे प्रभु, मुझे थोडा आयुष्य दीजिये… और मैं गिड़गिड़ाने लगा.!! इंद्र dev को मुझ पर दया आ गई.!!

इंद्र dev ने तथास्तु कहा और मेरी नींद खुल गयी…

मैं जाग गया….

अब मैं वो दौलत कमाऊँगा
जो वहाँ चलेगी…..

Ek High Court K Vakil Ki

Ek High Court K Vakil Ki Jungle Ke Raste me Car Kharab Ho Gayi.🚗

Door Tak Nazar Ghumai To 1 Jagah Bulb Jalta Dikhai Diya to Vakil Udhar Chal Pada,
Knock Kiya To 1 Sexy Aurat👩 ne Door khola aur Pucha: Kya Chahiye.☺

Vakil : Main High Court Ka Vakil Hu, Meri Car Kharab Ho Gayi Hai So Main Raat Gujarna Chahta Hun Yaha.😐

Aurat: Mere Paas Ek Hi Room Hai Aur Bed Bhi Ek Hai.😉

Vakil : “Aap Chinta Na Kare Main High Court Ka Vakil Hun Aapko Koi Pareshani Nahi Hogi.😐

Dono Jab Sone Ke Liye Bistar Par Pahunche To
Aurat: “Mujhe Sirf Bra Aur Painty Mein Sone Ki Aadat Hai.😉

Vakil : Aap Jaise Chahe Soye, Main High Court Ka Vakil Hun Aapko Koi Pareshani Nahi Hogi.😐

Aurat Bra /Panty Mein Let Gayi Aur Thodi Der Baad Boli: Mujhe Aapke Uper Taang Rakh Ke Sona Hai.😉

Vakil : “Madam Aap Jaise Marji Soiye Mujhe Koi Problame Nahi Main High Cort Ka Vakil Hun.😐

Raat Gujar Gaye Subah Vakil Sahab Bahar Baithe Chai Pee Rahe The To Unhone Dekha Ki Us Aurat Ne 2 Murge Aur 10 Murgiya Paal
Rakhi Thi Jinme Se Ek Murga Sab Murgiyo Ke Piche Bhag Raha Tha Aur Dusra Ek Murga Chupchap Baitha Tha.😣

Vakil : Ye Dusra Murga Chupchap Baitha Hai.. Kya Ye Bimar Hai?😌

Aurat: “Nahi .. Ye Chutiya High Court Ka Vakil Hai”😜😜

एक बच्चा अपनी माँ के साथ

एक बच्चा अपनी माँ के साथ एक दुकान पर शॉपिंग
करने गया तो दुकानदार ने उसकी मासूमियत देखकर
उसको सारी टॉफियों के डिब्बे खोलकर कहा-:
“लो बेटा टॉफियाँ ले लो…!!!”
पर उस बच्चे ने भी बड़े प्यार से उन्हें मना कर
दिया. उसके बावजूद उस दुकानदार ने और
उसकी माँ ने भी उसे बहुत कहा पर
वो मना करता रहा. हारकर उस दुकानदार ने खुद
अपने हाथ से टॉफियाँ निकाल कर उसको दीं तो उसने
ले लीं और अपनी जेब में डाल ली….!!!!
वापस आते हुऐ उसकी माँ ने पूछा कि”जब अंकल
तुम्हारे सामने डिब्बा खोल कर टाँफी दे रहे थे , तब
तुमने नही ली और जब उन्होंने अपने हाथों से
दीं तो ले ली..!! ऐसा क्यों..??”
तब उस बच्चे ने बहुत खूबसूरत प्यारा जवाब
दिया -: “माँ मेरे हाथ छोटे-छोटे हैं… अगर मैं
टॉफियाँ लेता तो दो तीन
टाँफियाँ ही आती जबकि अंकल के हाथ बड़े हैं
इसलिये ज्यादा टॉफियाँ मिल गईं….!!!!!”
बिल्कुल इसी तरह जब भगवान हमें देता है
तो वो अपनी मर्जी से देता है और वो हमारी सोच से
परे होता है,
हमें हमेशा उसकी मर्जी में खुश रहना चाहिये….!!!
क्या पता..??
वो किसी दिन हमें पूरा समंदर देना चाहता हो और हम
हाथ में चम्मच लेकर खड़े हों…
-Be soulful

जीवन की सचाई

जीवन की सचाई

एक आदमी की चार पत्नियाँ थी।

वह अपनी चौथी पत्नी से बहुत प्यार करता था और उसकी खूब देखभाल करता व उसको सबसे श्रेष्ठ देता।

वह अपनी तीसरी पत्नी से भी प्यार करता था और हमेशा उसे अपने मित्रों को दिखाना चाहता था। हालांकि उसे हमेशा डर था की वह कभी भी किसी दुसरे इंसान के साथ भाग सकती है।

वह अपनी दूसरी पत्नी से भी प्यार करता था।जब भी उसे कोई परेशानी आती तो वे अपनी दुसरे नंबर की पत्नी के पास जाता और वो उसकी समस्या सुलझा देती।

वह अपनी पहली पत्नी से प्यार नहीं करता था जबकि पत्नी उससे बहुत गहरा प्यार करती थी और उसकी खूब देखभाल करती।

एक दिन वह बहुत बीमार पड़ गया और जानता था की जल्दी ही वह मर जाएगा।उसने अपने आप से कहा,” मेरी चार पत्नियां हैं, उनमें से मैं एक को अपने साथ ले जाता हूँ…जब मैं मरूं तो वह मरने में मेरा साथ दे।”

तब उसने चौथी पत्नी से अपने साथ आने को कहा तो वह बोली,” नहीं, ऐसा तो हो ही नहीं सकता और चली गयी।

उसने तीसरी पत्नी से पूछा तो वह बोली की,” ज़िन्दगी बहुत अच्छी है यहाँ।जब तुम मरोगे तो मैं दूसरी शादी कर लूंगी।”

उसने दूसरी पत्नी से कहा तो वह बोली, ” माफ़ कर दो, इस बार मैं तुम्हारी कोई मदद नहीं कर सकती।ज्यादा से ज्यादा मैं तुम्हारे दफनाने तक तुम्हारे साथ रह सकती हूँ।”

अब तक उसका दिल बैठ सा गया और ठंडा पड़ गया।तब एक आवाज़ आई,” मैं तुम्हारे साथ चलने को तैयार हूँ।तुम जहाँ जाओगे मैं तुम्हारे साथ चलूंगी।”

उस आदमी ने जब देखा तो वह उसकी पहली पत्नी थी।वह बहुत बीमार सी हो गयी थी खाने पीने के अभाव में।
वह आदमी पश्चाताप के आंसूं के साथ बोला,” मुझे तुम्हारी अच्छी देखभाल करनी चाहिए थी और मैं कर सकता थाI”

दरअसल हम सब की चार पत्नियां हैं जीवन में।

1. चौथी पत्नी हमारा शरीर है।
हम चाहें जितना सजा लें संवार लें पर जब हम मरेंगे तो यह हमारा साथ छोड़ देगा।

2. तीसरी पत्नी है हमारी जमा पूँजी, रुतबा। जब हम मरेंगे
तो ये दूसरों के पास चले जायेंगे।

3. दूसरी पत्नी है हमारे दोस्त व रिश्तेदार।चाहेंवे कितने भी करीबी क्यूँ ना हों हमारे जीवन काल में पर मरने के बाद हद से हद वे हमारे अंतिम संस्कार तक साथ रहते हैं।

4. पहली पत्नी हमारी आत्मा है, जो सांसारिक मोह माया में हमेशा उपेक्षित रहती है।

यही वह चीज़ है जो हमारे साथ रहती है जहाँ भी हम जाएँ…….
कुछ देना है तो इसे दो….
देखभाल करनी है तो इसकी करो….
प्यार करना है तो इससे करो…

महाराणा प्रताप के हाथी की कहानी

महाराणा प्रताप के हाथी
की कहानी।:—

मित्रो आप सब ने महाराणा
प्रताप के घोंड़े चेतक के बारे
में तो सुना ही होगा,

लेकिन उनका एक हाथी
भी था।

जिसका नाम था रामप्रसाद।
उसके बारे में आपको कुछ बाते बताता हु।

रामप्रसाद हाथी का उल्लेख
अल- बदायुनी ने जो मुगलों
की ओर से हल्दीघाटी के
युद्ध में लड़ा था ने
अपने एक ग्रन्थ में कीया है।

वो लिखता है की जब महाराणा
प्रताप पर अकबर ने चढाई की
थी तब उसने दो चीजो को
ही बंदी बनाने की मांग की
थी एक तो खुद महाराणा
और दूसरा उनका हाथी
रामप्रसाद।

आगे अल बदायुनी लिखता है
की वो हाथी इतना समजदार
व ताकतवर था की उसने
हल्दीघाटी के युद्ध में अकेले ही
अकबर के 13 हाथियों को मार
गिराया था

और वो लिखता है की:
उस हाथी को पकड़ने के लिए
हमने 7 बड़े हाथियों का एक
चक्रव्यू बनाया और उन पर
14 महावतो को बिठाया तब
कही जाके उसे बंदी बना पाये।

अब सुनिए एक भारतीय
जानवर
की स्वामी भक्ति।

उस हाथी को अकबर के समक्ष
पेश
किया गया जहा अकबर ने
उसका नाम पीरप्रसाद रखा।

रामप्रसाद को मुगलों ने गन्ने
और पानी दिया।

पर उस स्वामिभक्त हाथी ने
18 दिन तक मुगलों का नही
तो दाना खाया और ना ही
पानी पीया और वो शहीद
हो गया।

तब अकबर ने कहा था कि;-
जिसके हाथी को मै मेरे सामने
नहीं झुका पाया उस महाराणा
प्रताप को क्या झुका पाउँगा।

ऐसे ऐसे देशभक्त चेतक व रामप्रसाद जैसे तो यहाँ
जानवर थे।

इसलिए मित्रो हमेशा अपने
भारतीय होने पे गर्व करो।

Love your parents

बहु ने आइने मेँ लिपिस्टिक ठिक
करते हुऐ
कहा -:
“माँ जी, आप
अपना खाना बना लेना,
मुझे और इन्हें आज एक
पार्टी में जाना है …!!
“बुढ़ी माँ ने कहा -: “बेटी मुझे
गैस वाला
चुल्हा चलाना नहीं आता …!!
“तो बेटे ने कहा -:
“माँ, पास वाले मंदिर में आज
भंडारा है ,
तुम वहाँ चली जाओ
ना खाना बनाने की कोई
नौबत
ही नहीं आयेगी….!!!
“माँ चुपचाप अपनी चप्पल पहन
कर मंदिर
की ओर
हो चली…..
यह पुरा वाक्या 10 साल
का बेटा रोहन सुन
रहा था |
पार्टी में जाते वक्त रास्ते में
रोहन ने अपने
पापा से
कहा -:
“पापा, मैं जब बहुत
बड़ा आदमी बन जाऊंगा ना
तब मैं भी अपना घर
किसी मंदिर के पास
ही बनाऊंगा ….!!!
माँ ने उत्सुकतावश पुछा -:
क्यों बेटा ?
….रोहन ने जो जवाब दिया उसे
सुनकर उस बेटे
और बहु
का सिर शर्म से नीचे झुक
गया जो
अपनी माँ को मंदिर में छोड़ आए
थे…..
रोहन ने कहा -: क्योंकि माँ,
जब मुझे भी किसी दिन
ऐसी ही किसी
पार्टी में
जाना होगा तब तुम
भी तो किसी मंदिर में
भंडारे में खाना खाने जाओगी ना
और मैं
नहीं चाहता कि तुम्हें कहीं दूर
के मंदिर में
जाना पड़े….!!!!
पत्थर तब तक सलामत है
जब तक
वो पर्वत से जुड़ा है .
पत्ता तब तक सलामत
है जब तक वो पेड़ से जुड़ा है
. इंसान तब तक
सलामत है
जब तक वो परिवार से
जुड़ा है .
क्योंकि परिवार से अलग होकर
आज़ादी तो मिल जाती है
लेकिन संस्कार चले
जाते हैं ..
एक कब्र पर लिखा था…
“किस को क्या इलज़ाम दूं
दोस्तो…,
जिन्दगी में सताने वाले भी अपने
थे,
और दफनाने वाले
भी अपने थे…
More @
Whatsappgreetings.com

लड़का अपने स्कूल की फीस भरने

🙇एक बार एक लड़का अपने स्कूल की फीस भरने के लिए एक दरवाजे से दूसरे दरवाजे तक कुछ सामान बेचा करता था,

😢 एक दिन उसका कोई
सामान नहीं बिका और उसे बड़े जोर से भूख भी लग रही थी. उसने तय किया कि अब वह जिस भी दरवाजे पर जायेगा, उससे खाना मांग
लेगा…

🚪पहला दरवाजा खटखटाते ही एक लड़की ने दरवाजा खोला, जिसे देखकर वह घबरा गया और बजाय खाने के उसने पानी का एक
गिलास माँगा….

🙇 लड़की ने भांप लिया था कि वह भूखा है, इसलिए वह एक…… बड़ा गिलास दूध का ले आई. लड़के ने धीरे-धीरे दूध पी लिया…

😔” कितने पैसे दूं?”
लड़के ने पूछा.
” पैसे किस बात के?”
लड़की ने जवाव में कहा.
“माँ ने मुझे सिखाया है कि जब भी किसी पर दया करो तो उसके पैसे नहीं लेने चाहिए.”

😯”तो फिर मैं आपको दिल से धन्यवाद देता हूँ.” जैसे ही उस लड़के ने वह घर छोड़ा, उसे न केवल शारीरिक तौर पर शक्ति मिल चुकी थी , बल्कि उसका भगवान् और आदमी पर भरोसा और भी बढ़ गया था….

⚡सालों बाद वह लड़की गंभीर रूप से बीमार पड़
गयी. लोकल डॉक्टर ने उसे शहर के बड़े अस्पताल में इलाज के लिए भेज दिया…

👷 विशेषज्ञ डॉक्टर होवार्ड केल्ली को मरीज देखने के लिए बुलाया गया. जैसे ही उसने लड़की के कस्बे का नाम सुना, उसकी आँखों में
चमक आ गयी…

😄वह एकदम सीट से उठा और उस लड़की के कमरे में गया. उसने उस लड़की को देखा, एकदम पहचान लिया और तय कर लिया कि वह उसकी जान बचाने के लिए
जमीन-आसमान एक कर देगा….

😎उसकी मेहनत और लग्न रंग लायी और उस लड़की कि जान बच गयी.
डॉक्टर ने अस्पताल के ऑफिस में जा कर उस
लड़की के इलाज का बिल लिया….

😍 उस बिल के कौने में एक नोट लिखा और उसे उस लड़की के पास भिजवा दिया. लड़की बिल का लिफाफा देखकर घबरागयी…

😢 उसे मालूम था कि वह बीमारी से तो वह बच गयी है लेकिन बिल कि रकम जरूर उसकी जान ले लेगी…

😣 फिर भी उसने धीरे से बिल खोला, रकम को देखा और फिर अचानक उसकी नज़र बिल के कौने में पैन से लिखे नोट पर गयी…

😓जहाँ लिखा था, “एक गिलास दूध द्वारा इस बिल
का भुगतान किया जा चुका है.” नीचे उस नेक डॉक्टर
होवार्ड केल्ली के हस्ताक्षर थे.

😃 ख़ुशी और अचम्भे से उस लड़की के गालों पर आंसू टपक पड़े उसने ऊपर कि और दोनों हाथ उठा कर
कहा, ” हे भगवान..! आपका बहुत-बहुत धन्यवाद..
आपका प्यार इंसानों के दिलों और हाथों के द्वारा न जाने कहाँ- कहाँ फैल चुका है.”

☀अगर आप दूसरों पर.. अच्छाई करोगे तो.. आपके साथ भी.. अच्छा ही होगा ..!!

👳अब आपको दो में से एक चुनाव करना है…!
या तो आप इसे शेयर करके इस सन्देश को हर जगह पहुंचाएँ..! या

😞अपने आप को समझा लें कि इस कहानी ने आपका दिल नहीं छूआ..!!

❤❤DIL SEY❤

nice story with a wonderful lesson

I just saw this nice story with a wonderful lesson and thought to share it with u all, pls enjoy:

An aging King realized that if he died he has no one to take over the throne. He decided to adopt a son.

He launched a competition and 10 boys made it to the top. The King said to them, “I have one last test and whoever comes top will become my adopted son and heir to my throne”.

He gave each boy a seed of corn and told them to take the seed home, plant and nurture it for 3 weeks. The 10 boys took their seeds and ran home to plant their seeds.

In one home, the boy and his parents were sad when the seed failed to sprout. The boy had done everything but he failed.

His friends advised him to buy a seed and plant it but his God fearing parents who had always taught him honesty refused.

The day came and the 10 boys went to the palace. All the 9 boys were successful.

The King went to each boy asking – “Is that what came out of the seed I gave you?” And each boy said “Yes, your majesty”. The King would nod and move down the line until the last boy in the line who was shaking with fear.

The King asked him – “What did you do with the seed I gave you?” The boy said “I planted it and cared for it your majesty but it failed to sprout.” The King went to the throne with the boy and said, “I gave these boys boiled seeds and a boiled seed cannot sprout.

If a King must have one quality, it must be honesty and only this boy passed the test.” We live in a society where people will do anything for success.

God sometimes does not give us things because He wants to teach us a lesson.

How many people out there have achieved success the wrong way? How many people send their children to expensive schools and build houses, buy expensive cars with stolen money?

How many people are occupying top positions yet they stole the certificates? How many people are successful out there at all costs?

HOW MANY PEOPLE WILL BE CROWNED AS KINGS IN HEAVEN FOR BEING FAITHFUL UNTIL THE END? I PRAY THAT I BE FAITHFUL TILL THE END!!!

Please be faithful to God no matter what life throws at you, even if life gives you boiled seed.

I hope you can spare me your precious time to send this to ten people to be faithful in their Christian life.